सुशील मोदी का बड़ा आरोप- उद्धव मूवी माफिया के दबाव में, सुशांत के दोषियों को बचाने की कोशिश

New Delhi : बिहार के उप मुख्यमंत्री सुशील मोदी ने महाराष्ट्र के मुख्यमंत्री उद्धव ठाकरे पर सुशांत केस में रोड़े अटकाने का आरोप लगाया है। कहा- वे चाहते ही नहीं हैं कि सुशांत केस से जुड़े दोषी बेनकाब हों। उद्धव ठाकरे का गठजोड़ मूवी माफियाओं के साथ है। इसी वजह से मुम्बई पुलिस पटना पुलिस की जांच में कोई मदद तो नहीं ही कर रही है। पटना पुलिस टीम को परेशान भी किया जा रहा है। पूरा देश देख रहा है कि सुशांत केस में महाराष्ट्र पुलिस क्या कर रही है। महाराष्ट्र सरकार का सुशांत केस में क्या रोल है। ट्विटर पर कई दिनों से सीबीआई फॉर सुशांत ट्रेंड कर रहा है। आज रिजाइन उद्धव, सीबीआई फॉर सुशांत नंबर वन ट्रेंड बना हुआ है।

बिहार के उप मुख्यमंत्री सुशील मोदी ने ट्वीट किया- महाराष्ट्र में पहले भी बिहार के लोगों से दुर्व्यवहार की शिकायतें मिलती थीं, लेकिन अब वहां कांग्रेस-एनसीपी की बैसाखी पर टिकी उद्धव सरकार ने तो हद कर दी है। लॉकडाउन के दौरान महाराष्ट्र से बिहारी मजदूरों की वापसी के समय अड़ंगेबाजी की गई।
फिर दूसरा ट्वीट किया- अब बिहार के बेटे सुशांत सिंह राजपूत केस की जांच के लिये पहुंची बिहार पुलिस को मुम्बई पुलिस का सहयोग नहीं मिल रहा है। इसके बाद मोदी ने फिर एक ट्वीट किया- उद्धव ठाकरे कांग्रेस-संपोषित बालीवुड माफिया के दबाव में हैं, इसलिए सुशांत मामले में जिम्मेदार सभी तत्वों को बचाने पर तुले हैं। कांग्रेस बिहार की जनता को क्या मुँह दिखायेगी?

बता दें- पटना पुलिस सुशांत केस की जांच को लगातार आगे बढ़ा रही है। पटना पुलिस के साथ मुम्बई पुलिस को-ओपरेट तो नहीं ही कर रही थी अब बदतमीजी भी करने लगी है। साफ है कि मुम्बई पुलिस को पटना पुलिस की जांच-पड़ताल रास नहीं आ रही। पटना पुलिस बांद्रा स्थित सुशांत के घर पहुंची। वहां जमीन मालिक, सोसायटी के मैनेजर, नौकर नीरज, गार्ड और बिल्डिंग में रह रजे कई लोगों से पूछताछ की गई। इंस्पेक्टर मनोरंजन भारती ने पूछताछ की। इस पूछताछ में पुलिस के हाथ काफी लीड लगे हैं और मुम्बई पुलिस सहयोग करे न करे पटना पुलिस मामले का पटाक्षेप कर ही देगी।
पटना पुलिस की पूछताछ के दौरान जमीन मालिक से पूछा गया – सुरक्षा के हिसाब से किराया क्यों ज्यादा है? सीसीटीवी सही जगह क्यों नहीं लगाये गये हैं? गार्ड और सोसायटी मैनेजर से सुशांत के व्यवहार या उनके खिलाफ कभी कोई किसी ने शिकायत की है कभी या नहीं ऐसे कई सवाल पटना पुलिस ने किया। इसके बाद पुलिस उस फ़्लैट में गई जहां सुशांत ने अंतिम सांस ली थी। हालांकि फ्लैट 10 दिन पहले खाली हो चुका था। सूत्रों की माने खाली हाथ फ्लैट में घुसी पुलिस वहां से कुछ ठोस सबूत साथ लेकर निकली है। पुलिस का कहना है कुछ लीड मिली है। करीब दो घँटे वहां पुलिस मौजदू रही है।

पटना पुलिस डायरेक्टर मुकेश छाबड़ा के घर भी पहुंची। पुलिस अंधेरी के वरसोवा इलाक़े में आराम नगर में सुशांत की आख़िरी फ़िल्म दिल बेचारा के डायरेक्टर मुकेश छाबडा का बयान दर्ज किया। सुशान्त केस की जांच कर रही पटना पुलिस की 2 सदस्यों की टीम कूपर अस्पताल भी गई और सुशांन्त के पोस्टमार्टम से जुड़ी बारीक जानकारियां कलेक्ट किया।
पटना पुलिस टीम ने मुंबई के डीसीपी से मुलाकात की। उनसे जांच में सहयोग करने की डिमांड की। खबर है कि मुम्बई डीसीपी को एक पत्र भी दिया गया है। पत्र में कई बिंदुओं पर जांच करने और उसमें जानकारी उपलब्ध कराने की बात का जिक्र है। पोस्टमार्टम और विसरा रिपोर्ट की मांग भी पटना पुलिस ने की है।

पोस्टमार्टम 5 डॉक्टरों की टीम ने किया था। पुलिस की टीम पीएम करने वाले डॉक्टरों की टीम से भी मिली और पूरा विवरण लिया। हालांक डाक्टरों ने पूरा सहयोग नहीं किया। सुशान्त सिंह राजपूत मामले में सभी फोरेंसिक लैब रिपोर्ट मुंबई पुलिस को भेज दी गई हैं। जिसमें विसरा, टॉक्सिकोलॉजी, साइबर, लिचर मार्क, नेल सैंपलिंग, स्टमक वाश है। डाक्टरों ने कहा आप मुम्बई पुलिस से संपर्क करिये। वैसे इस मामले में रोज नये खुलासे होने के बाद महाराष्ट्र के मुख्यमंत्री उद्धव ठाकरे का भी बयान आया है और उन्होंने कहा है- इसमें राजनीति को लाना ठीक नहीं। पुलिस पूरी तन्मयता से जांच कर रही है।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

three + six =