केंद्रीय मंत्री नकवी ने कहा मरकज के नुमाइंदों पर कड़ी कार्रवाई हो

अल्पसंख्यक मंत्री नकवी ने कहा – जमातियों ने पहले देश में संक्रमण फैलाया, अब कोरोना वॉरियर बनेंगे?

New Delhi : केंद्रीय मंत्री मुख्तार अब्बास नकवी ने तबलीबी जमात पर निशाना साधा। उन्होंने कहा कि पहले जमातियों ने देशभर में संक्रमण फैलाया, अब प्लाज्मा डोनेट करने की सिफारिश कर कोरोना वॉरियर बनना चाहते हैं। तबलीगी अपने गुनाहों पर शर्म करने की बजाय लाखों कोरोना योद्धाओं का अपमान कर रहे हैं। पहले भी नकवी ने जमातियों के द्वारा संक्रमण फैलने को तालिबानी जुर्म बताया था। उन्होंने इसके लिए कड़ी से कड़ी सजा देने की मांग की थी।

अल्पसंख्यक मंत्री ने ट्वीट किया – बेशक कुछ राष्ट्रभक्त मुसलमानों ने जरूरतमंदों को प्लाज्मा दिया है पर उन्हें तब्लीगी कहना ठीक नहीं। हर हिंदुस्तानी मुसलमान को तबलीगी साबित करने की “सुनियोजित घटिया तबलीगी साजिश” है।

इधर कानपुर के तीन अलग-अलग मदरसों से करीब 60 छात्रों की कोरोना रिपोर्ट पॉजिटिव आई है। रिपोर्ट आने के बाद मदरसे और आसपास के इलाकों को सील कर दिया गया है। उत्तर प्रदेश सरकार के लिये यह बहुत बड़ा सरदर्द हो गया है क्योंकि अब कानपुर प्रदेश में आगरा के बाद दूसरा बड़ा हॉटस्पॉट बन गया है। कानपुर की तंग गलियां और घनी आबादी प्रशासन के लिये सबसे बड़ा सरदर्द है।
तीनों मदरसे दारुलउलूम अशर्फिया गौसिया मजारिस अनवरगंज, मदरसा कुलीबाजार, दारुलउलूम अशर्फियां गौसिया और हिदायद मदरसा के हैं। ये बच्चे दिल्ली के निजामुद्दीन मरकज से लौटे कुछ तबलीगी जमात के लोगों के संपर्क में आ गये थे। प्रशासन और स्वास्थ्य विभाग ने इसकी पुष्टि की है। कानपुर एसपी अनंत देव तिवारी ने बताया कि दिल्ली के निजामुद्दीन मरकज में शामिल होने के बाद कुछ जमाती शहर की विभिन्न मस्जिदों और मदरसों में ठहरे थे। ये सभी बच्चे इन्हीं जमातियों के संपर्क में आये। जिसके बाद इनकी जांच की गई। एसपी ने बताया कि हमने सभी हॉट स्पॉट इलाकों को सील कर दिया है।

आज कई मुस्लिम ने एकजुट होकर ब्लड प्लाज्मा डोनेट किया।

इन इलाकों की ड्रोने से निगरानी की जा रही है। मदरसों में बाहर से भी कई छात्र पढ़ने आए हैं। सभी के बारे में जानकारी जुटाई जा रही है। 3 दिन पहले ही जाजमऊ के 1 मदरसे से महज 6 संक्रमित मरीज मिले थे। इसके बाद आज करीब 60 पॉजिटिव केस मिले हैं। कानपुर सीएमओ अशोक शुक्ला के मुताबिक अधिकांश मदरसों से बच्चों की जांच कराई गई जोकि कानपुर के अलग-अलग स्थानों के मदरसों से थे। इनमें 60 बच्चे पॉजिटिव पाए गए हैं।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

+ fifty one = 57