TDP और YSR पार्टियों ने एक दूसरे पर लगाया मा’रपीट का आ’रोप, डीजीपी से की शिकायत

New Delhi : आंध्रप्रदेश में सत्ता बदलने के साथ टीडीपी और वाईएसआर कांग्रेस के बीच दुश्मनी खुलकर सामने आ रही है। सोमवार वाईएसआर कांग्रेस पार्टी (वाईएसआरसीपी) और तेलुगु देशम पार्टी (टीडीपी) दोनों के पार्टी नेताओं ने यहां पुलिस महानिदेशक (डीजीपी) गौतम सवांग से मुलाकात कर एक दूसरे पर शारीरिक हमले करने और अभद्रता का आरोप लगाया है। इस संबंध में शिकायत दर्ज़ कराई है।

मंगलगिरि से वाईएसआर कांग्रेस पार्टी के विधायक, रामकृष्ण रेड्डी ने डीजीपी गौतम सवांग को एक शिकायत की, जिसमें टीडीपी पर वाईएसआर कांग्रेस के नेताओं पर शारीरिक हमले करने का आरोप लगाया गया। रामकृष्ण ने कहा, “अपनी हार को पचाने में असमर्थ टीडीपी आंध्र प्रदेश के कस्बों और गांवों में हिं’सा फैल रही है। वे मुख्यमंत्री वाईएस जगन मोहन रेड्डी और पार्टी के अन्य नेताओं के खिलाफ भी अश्लील हरकत कर रहे हैं।” रामकृष्ण ने कहा कि उन्हें शक है कि टीडीपी प्रमुख चंद्रबाबू नायडू और उनके बेटे नारा लोकेश के इशारे पर मुख्यमंत्री जगन रेड्डी की छवि पर व्यक्तिगत ह’मले किये गए है। उन्होंने कहा, “टीडीपी स्थानीय निकाय चुनावों के लिए राजनीतिक लाभ प्राप्त करने के लिए राज्य में कानून और व्यवस्था की समस्याओं को पैदा करने की कोशिश कर रही है,”

इसके बाद टीडीपी नेताओं ने भी डीजीपी सवांग से मुलाकात की और राज्य में वाईएसआर कांग्रेस के सत्ता में आने के बाद से उनके कार्यकर्ताओं पर हमलों का आरोप लगाया। टीडीपी नेताओं ने आरोप लगाया कि नई सरकार के आने के बाद कानून-व्यवस्था की स्थिति बिगड़ रही है और राज्य में हत्या, बलात्कार, आगजनी और संगठित हिंसा की कई घटनाएं हुई हैं।

गौरतलब है इससे पहले जगमोहन रेड्डी ने आंध्राप्रदेश के पूर्व मुख्यमंत्री चंद्रबाबू नायडू के बंगले ‘प्रजा वेदिका’ को भी तोड़ दिया गया। इसके साथ नायडू की सुरक्षा को कम कर दिया गया। जिसमे राज्य सरकार ने 15 सदस्यीय विशेष पुलिस दल को हटा कर चार कांस्टेबलों तक सीमित कर दिया है