योगीराज : CM ने कहा-कोई मजदूर पैदल चलता न मिले, पुलिस श्रमिकों को रोक बसों से पहुंचाने लगी

New Delhi : उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने गुरुवार को यह सुनिश्चित करने का निर्देश दिया कि प्रवासी मजदूर पैदल यात्रा कर प्रदेश वापस न लौटें। मजदूर इस तपती धूप में भी परिवार के साथ पैदल यात्रा करते हुये नजर आ रहे हैं। ऐसी ही यात्रा करते 172 मजदूरों को बुलंदशहर में रोका गया। दिल्ली और नोएडा से जा रहे मजदूरों को यूपी पुलिस ने रोककर एक स्थानीय कॉलेज में ठहराया है। इन मजदूरों के लिए बस का इंतजाम किया जा रहा है। बसों के जरिये इन्हें इनके गृह जनपदों तक पहुंचाया जायेगा।
सीएम योगी ने अधिकारियों को निर्देश दिए हैं कि वापस आये सभी श्रमिकों का अनिवार्य रूप से स्वास्थ्य परीक्षण किया जाये। और जो टीम इन मजदूरों की जांच कर रही है उन्हें भी 14 दिनों के लिए क्वारैंटाइन किया जाये। 14 दिनों बाद जब सभी स्वस्थ हो जायें तो ही उन्हें घर भेजा जाये। सीएम योगी के अनुसार सभी जनपदों में इन्फ्रा-रेड थर्मामीटर उपलब्ध कराये जायें।

इस गर्मी में भी जब मजदूर बिना थके पैदल लौट रहे हैं तो सीएम योगी का दिल पसीजा। योगी सरकार ने बसें मुहैया कराईं।

रोजगार की संभवनाओं की नये सिरे से तलाश करने की दिशा में काम शुरू हो गया है। सरकारी विभागों में समूह ‘घ’ तक के रिक्त पदों का ब्यौरा नये सिरे से तैयार करने की दिशा में काम शुरू हो गया है। अपर मुख्य सचिव नियुक्ति एवं कार्मिक मुकुल सिंघल ने शुक्रवार को इस संबंध में विभागीय अधिकारियों की बैठक बुलाई है।
कार्मिक विभाग ने सरकारी विभागों में समूह ‘घ’ तक के पदों का ब्यौरा जुटाने के लिए सभी विभागों के प्रमुख सचिव व सचिव को पत्र भेजकर रिक्तियों के बारे में जानकारी मांगी है। अपर मुख्य सचिव नियुक्ति एवं कार्मिक की अध्यक्षता में शुक्रवार को इस संबंध में बैठक चल रही है। अपर मुख्य सचिव नियुक्ति एवं कार्मिक ने कहा है कि किस विभाग में कितने पद हैं और इसमें से कितने खाली हैं, इसकी जानकारी एकत्र की जा रही है।
इधर उत्तर प्रदेश के बिजनेस हब नोएडा में धीरे-धीरे जिंदगी पटरी पर आने लगी है। नोएडा के सेक्टर 81 स्थित सैमसंग इलेक्ट्रॉनिक्स के प्लांट में काम शुरू हो गया। शुक्रवार को 3000 मजदूरों के साथ कंपनी ने कामकाज शुरू कर दिया। इन सभी कर्मचारियों को बसों के जरिये फैक्ट्री तक लाया गया। सरकार ने लॉकडाउन में सीमित कर्मचारियों के साथ फैक्ट्री के संचालन को मंजूरी दी है। 35 एकड़ में फैली इस फैक्ट्री का उद्घाटन प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी और दक्षिण कोरिया के राष्ट्रपति मून जे-इन ने किया था। यह दुनिया की सबसे बड़ी मोबाइल मैन्युफैक्चरिंग यूनिट है।

नोएडा में दुकानदार, कारोबारी और निजी दफ्तर वालों ने जिला प्रशासन के आदेशों के बाद जरूरी एहतियात के साथ अपने प्रतिष्ठान खोल दिये हैं। इसमें ये लोग स्वास्थ्य विभाग की ओर से जारी सभी जरूरी गाइडलाइंस का पालन कर रहे हैं। प्रवेश देने से पहले खरीदारों की थर्मल स्कैनिंग भी की जा रही है।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

sixty eight − sixty five =