अरुण जेटली के निधन पर योगी ने जताया शोक,कहा- उनका जाना देश के लिए अपूरणीय क्षति है

New Delhi : कई दिनों से बीमार चल रहे पूर्व वित्त मंत्री अरुण जेटली का आज यानि 24 अगस्त को निधन हो गया। उनके निधन की खबर सुनते पूरा देश स्तब्ध हो गया है। लगभग सभी राजनीतिज्ञों ने अपने -अपने दौरों को रद्द कर दिया है। उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने अरुण जेटली के निधन पर शोक जताया।

 उन्होंने लिखा कि, “श्री अरुण जेटली जी का जाना देश और समाज की ऐसी अपूरणीय क्षति है जिसकी रिक्तता का अहसास हम लंबे समय तक करते रहेंगे। ईश्वर से प्रार्थना है कि पुण्यात्मा को वे अपने श्री चरणों में स्थान दें और परिजनों को इस अपार दुःख को सहन करने की शक्ति दें।ॐ शांति ”।

योगी ने कहा कि, ” देश के प्रख्यात विधिवेत्ता एवं पूर्व केंद्रीय वित्त मंत्री जी के निधन की खबर से स्तब्ध हूं। जेटली जी छात्र जीवन में ही भाजपा से जुड़े, आपातकाल के ख़िलाफ़ आवाज मुखर की एवं आजीवन सकारात्मक राजनीति के साथ माँ भारती की सेवा करते रहे।”

आपको बता दें कि अरुण जेटली का ट्रीटमेंट एंडोक्रिनोलोजिस्ट नेफ्रोलॉजिस्ट और कार्डियोलॉजिस्ट डॉक्टरों की देखरेख में चल रहा था। कार्डियोलॉजी के हेड ऑफ डिपार्टमेंट डॉक्टर वीके बहल की निगरानी में अरुण जेटली का इलाज चल रहा था। खबर थी की जेटली को सांस लेने में दिक्कत हुई थी जिसके बाद उन्हें चैकअप के लिए अस्पताल लाया गया।

पूर्व वित्त मंत्री अरुण जेटली को सांस लेने में तकलीफ और बेचैनी की शिकायत के बाद नौ अगस्त को दिल्ली के एम्स में भर्ती कराया गया था। पिछले कुछ महीनों में वित्त मंत्री अरुण जेटली की सेहत लगातार गिर रही है। खराब सेहत की वजह से ही उन्होंने 2019 का लोकसभा चुनाव नहीं लड़ा था। इसी साल 14 मई को एम्स में जेटली के गुर्दे का प्रत्यारोपण किया गया था।

अरुण जेटली बीजेपी सरकार के पहले कार्यकाल में प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के मंत्रिमंडल का अहम चेहरा थे। इस दौरान जेटली ने वित्त एवं रक्षा दोनों मंत्रालयों का कार्यभार संभाला था।