यूपी में 68500 सहायक अध्यापक भर्ती  मामले में सुप्रीम कोर्ट में जवाब दाखिल करने से पहले आज बैठक करेंगे योगी आदित्यनाथ

New Delhi

बेसिक शिक्षा विभाग में 68500 सहायक अध्यापकों की भर्ती को लेकर आज योगी आदित्यनाथ  शिक्षा विभाग के अधिकारियों से बात करेंगे। परीक्षा में गड़बड़ी को लेकर कुछ दिनों पूर्व छात्रों के  द्वारा  उच्चतम  न्यायालय  में याचिका दाखिल की गई थी। जिसको  आगे  बढ़ाते  हुए उच्चतम न्यायलय ने सरकार को नोटिस जारी कर पूछा कि भर्ती प्रक्रिया की जांच सीबीआई के द्वारा कराई जाए या नहीं। इसके लिए बेसिक शिक्षा विभाग से जवाब दाखिल करने को कहा है। सर्वोच्च न्यायलय में जवाब दाखिल करने से पहले मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ उनके साथ बैठक कर  सारी जानकारी लेंगे।

क्या है पूरा मामला

गौरतलब है कि 68500 सहायक अध्यापक भर्ती परीक्षा कराई गई। जिसके बाद  यह सामने आया कि परीक्षा सही से नहीं हो पाई है ,इसमें कुछ गड़बड़ी हुई है। जब परीक्षा के नंबर आए तो कई छात्र अपने नंबरों से संतुष्ट नहीं थे , उनका कहना  था कि उनके नंबर कम आए हैं। इस पर योगी आदित्यनाथ ने जांच के लिए तीन सदस्यों की एक कमेटी बनाई । इस कमेटी ने अपनी रिपोर्ट देने के बाद कहा कि अभ्यर्थियों की कॉपी का फिर से मूल्यांकन हो और जिसके नंबर सही हों उसे नौकरी दी जाए। इसमें करीब 44 हजार से अधिक छात्रों को नौकरी मिल गई।

इसके बावजूद कई छात्र इस फैसले से संतुष्ट नहीं थे उन्होंने सरकार के इस फैसले को इलाहाबाद हाई कोर्ट की लखनऊ बेंच में चुनौती दे दी। जहां की एकल पीठ ने आदेश दिया कि मामले की सीबीआई जांच कराई जाए।फिर इस फैसले को राज्य सरकार ने बदलवाने के लिए हाईकोर्ट की खंडपीठ को चुनौती दे दी और खंडपीठ ने एकल पीठ के इस फैसले को निरस्त कर दिया। इसके बाद परेशान होकर छात्रों ने सर्वोच्च न्यायालय का दरवाजा खटखटाया । सर्वोच्च न्यायलय में छात्रों की वकालत कर रहे वकील आरके सिंह ने भी कहा कि परीक्षा में भारी गड़बड़ियां हुई हैं।

अब उच्चतम न्यायलय सीबीआई जांच करवाना चाहता है, बस शिक्षा विभाग के अधिकारियों के जवाब का इंतजार है। उम्मीद की जा सकती है कि इतने पड़ावों से गुजरने के बाद छात्रों के हित में फैसला आएगा।