कल इंस्पेक्टर सुबोध के परिजनों से मुलाकात करेंगे सीएम योगी, अधिकारियों को देंगे सख्त निर्देश

Yogi Adityanath

New Delhi: Uttar Pradesh के मुख्यमंत्री yogi adityanath कल यानी 6 दिसंबर को बुलंदशहर हिंसा में शहीद हुए पुलिस इंस्पेक्टर सुबोध सिंह के परिजनों से मुलाकात करेंगे। जानकारी के मुताबिक, लखनऊ में सीएम योगी कल सुबोध के परिजनों से मुलाकात करेंगे। इससे पहले कल आधी रात तक यूपी सीएम योगी आदित्यनाथ ने कानून-व्यवस्था की समीक्षा करते हुए पुलिस अधिकारियों को सख्त निर्देश दिए। उन्होंने बुलंदशहर की हिंसा और आगजनी को एक गहरी साजिश का हिस्सा करार देते हुए ऐसे लोगों को तुरंत गिरफ्तार करने के निर्देश दिए हैं।

Yogi Adityanath

आपको बता दें कि मामले में गुस्साई भीड़ ने अखलाक केस के रहे इंस्पेक्टर सुबोध की जान ले ली। सुबोध के सिर में गोली लगने से उनकी मौक पर ही जान चली गई। हैरानी की बात तो ये है कि इंस्पेक्टर सुबोध को गोली लगने के बाद भी भीड़ उन्हें पीटती रही। भीड़ ने जीप से लटके सुबोध के शव का वीडियो भी बनाया। सुबोध की पत्नी ने कहा कि मेरे पति ने पूरी ईमानदारी के साथ काम की और पूरी जिम्मेदारी अपने ऊपर ले ली। यह पहली बार नहीं हुआ है। वे दो बार गोली से घायल हो चुके थे। लेकिन उन्हें कोई इंसाफ नहीं दे रहा है। इंसाफ तभी मिलेगा जब उनके आरोपियों को मार दिया जाएगा।

वहीं मामले पर इंस्पेक्टर सुबोध सिंह बहन ने बड़ा बयान दिया है। मीडिया से बात करते हुए उन्होंने कहा कि मेरे भाई अखलाक केस की जांच कर रहे थे और यही वजह है कि उनको जान से मार दिया गया हैं। यह पुलिस की साजिश है। सुबोध की बहन ने कहा कि उन्हें शहीद का दर्जा दिए जाने की घोषणा होनी चाहिए। हमें पैसे नहीं चाहिए। मुख्यमंत्री सिर्फ गाय-गाय कह रहे हैं।

आपको बता दें कि सोमवार को मचे बवाल के बाद बीती रात जनपद और आसपास के इलाकों में छापेमारी की। इस मामले की जांच एसआईटी की टीम कर रही हैं। खबरों के मुताबिक, इस मामले में बजरंग दल का नेता योगेश राज मुख्य आरोपी है। पुलिस ने इस मामले में अब तक 5 लोगों को गिरफ्तार किया है और चार लोगों को हिरासत में लिया है। हिंसा के आरोप में बजरंग दल के नेता योगेश राज के साथ 80-90 लोगों के खिलाफ एफआईआर दर्ज की गई है। बताया जा रहा है कि इनमें से 27 लोग नामजद हैं और 50-60 लोग अज्ञात हैं।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *