वर्ल्ड वीमेन बॉक्सिंग चैंपियनशिप: भारत की पांच महिला मुक्केबाज क्वार्टर फाइनल में पहुंची

New Delhi : मेरी कॉम के बाद अब भारत में मुक्केबाजी के दौर का आगाज हो गया है। पिछली बार की कांस्य पदक विजेता लवलिना और जमुना बोरो बुधवार को वर्ल्ड विमेन बॉक्सिंग चैंपियनशिप के क्र्वार्टर फाइनल में पहुंच गई हैं।

बोरो ने अल्जीरिया की अफ्रीकन गोल्ड मेडलिस्ट को अपने पंच से धराशायी कर दिया। वहीं दूसरी ओर लवलिना ने मोरक्को की ओमैमा बेल को हाथों हाथ ले लिया और 5-0 से जीत गई।

जमुना बोरो को जीत मुबारक हो।
जमुना बोरो को जीत मुबारक हो।

बोरो का अगला मैच बेलरस की युलिया के साथ है। युलिया यूरोपियन चैंपियनशिप की कांस्य पदक विजेता है जिसने जर्मनी की उर्सुला को हराया था। अगर ये भारतीय महिलाएं क्वार्टर फाइनल जीत जाती हैं तो इनका वर्ल्ड चैंपियनशिप में मेडल पक्का हो जाएगा।

स्मृति मंधाना इंजरी के चलते हुई गेम से बाहर, टीम में आईं एक रिकॉर्ड तोड़ू ऑलराउंडर

इन दोनों के अलावा जो तीन महिलाएं क्वार्टर फाइनल में एंटर कर चुकी हैं वो हैं मेरी कॉम, कविता और मंजू रानी। अपनी वेट कैटेगरी में ये भिड़ने को तैयार हैं। कविता जो खुद भी एक मां हैं कहतीं हैं कि उनका सपना था कि वो भी छह बार की वर्ल्ड चैंपियन मेरी कॉम जैसी मुक्केबाज बनें। उनका ये सपना उड़ान भरने वाला है। वहीं जमुना बोरो की मां ने सब्जियां बेच बेचकर उन्हें बॉक्सिंग खेलने के लिए प्रेरित किया है। इस शिखर तक पहुंचने वाली हर महिला की अपनी ये कहानी है।

अभी सिर्फ मेरी कॉम की कहानी ही लोगों तक पहुंची है। एक बार ये वर्ल्ड चैंपियनशिप जीत जाएं तो हर किसी तक इनकी कहानी पहुंच जाएगी। ये भारतीय महिला मुक्केबाज रिंग में भी फाइटर और असल जिंदगी में भी फाइटर हैं।