ऑड-ईवन को जारी रखा जाए या नहीं, केजरीवाल सोमवार को लेंगे फैसला

New Delhi: दिल्ली में बढ़ रहे प्रदूषण को देखते हुए मुख्यमंत्री केजरीवाल पहले ही कह चुके हैं कि अगर जरूरत पड़ी तो ऑड-इवन को फिर से लागु किया जा सकता है। अब आज केजरीवाल ने कहा है कि नियम आगे जारी रखा जाए या नहीं, इसका फैसला सरकार 18 नवंबर यानी आगामी सोमवार को लेगी। अभी 15 नवंबर तक राजधानी में इस नियम को लागू किया गया है।

केजरीवाल ने यहां मीडिया से कहा, “मौसम के पूर्वानुमान के अनुसार, दिल्ली में अगले 2-3 दिनों में हवा की गुणवत्ता में सुधार होगा। अगर वायु गुणवत्ता में सुधार नहीं होता है, तो हम 18 नवंबर को ऑड-ईवन योजना को आगे बढ़ाने का फैसला करेंगे।”

यातायात की भीड़ को कम करने और प्रदूषण से निपटने के प्रयास में, 4 नवंबर को राष्ट्रीय राजधानी में ऑड-ईवन योजना शुरू हुई। आज इसका आखिरी दिन है। यह योजना सुबह 8 से रात 8 बजे तक लागू है।

इस योजना के तहत अगर आपकी गाड़ी की नंबर प्लेट का आखिरी नंबर ईवन यानी सम संख्या (2,4,6,8 और 0) है तो आप अपना वाहन 4, 6, 8, 10, 12 और 14 तारीख को और अगर गाड़ी का नंबर ऑड यानी विषम संख्या है तो 5, 7, 9,11,13 और 15 नवंबर को गाड़ी निकाल सकते हैं। दिल्ली में ऑड- ईवेन फॉर्मूला रोजाना सुबह 8 से रात 8 बजे तक प्रभावी है। रविवार को यह योजना लागू नहीं होती।

केजरीवाल ने हरियाणा और पंजाब सरकार दोनों को बार-बार दिल्ली और उसके आस-पास के इलाकों में फसल के अवशेषों को जलाने के कारण होने वाले हानिकारक धुंध के लिए जिम्मेदार ठहराया है। गर्मियों की फसल के लिए खेतों को खाली करने के लिए हरियाणा और पंजाब में कई किसान सर्दियों में धान की कटाई के बाद फसल अवशेष जिन्हें पराली कहा जाता है, को जलाते हैं। इनसे निकलने वाले धुएं से वायु प्रदूषण के स्तर में बढ़ोतरी होती है।