WHO टीम मौके पर : इस्लामिक सेंटर में 300 मुस्लिमों को एक साथ खांसी-बुखार, 6 कोरोना पीड़ित

New Delhi : निजामुद्दीन के तब्लीगी जमात के मरकज ( इस्लामिक सेंटर) से करीब 200 लोगों को Corona virus की जांच के लिये दिल्ली के अलग-अलग अस्पतालों में ले जाया गया है। पहले खबर आई थी कि राजधानी दिल्ली में लोक नायक जयप्रकाश हॉस्पिटल (LNJP) में 33 Corona Virus से संक्रमित संदिग्धों को भर्ती कराया गया है। मगर यह संख्या 200 है। ये लोग कई दिनों से निजामुद‍्दीन के तब्लीगी जमात के मरकज ( इस्लामिक सेंटर) में डेरा डाले हुए थे। इसमें से एक 64 साल के एक व्यक्ति की मौत हो गई। मौके पर WHO की टीम पहुंच गई है। स्वास्थ्य विभाग की टीम भी पहुंच गई है।
जिस शख्स की मौत हुई है वे तमिलनाडु के रहनेवाले थे। इस शख्स में Corona जैस लक्षण ही पाये गये थे। इनको जब अस्पताल ले जाया गया तो इनकी मौत हो गई। बाकी लोगों में भी Corona जैसे लक्षण दिखाई दिए हैं। इनका सैंपल जांच के लिए भेजे गए हैं। ये सभी लोग हज यात्रा करके लौटे थे। हज से लौटने के बाद सभी निजामुदृीन दरगाह में क्वैरंटाइन थे। एकाएक इस पूरे ग्रुप के बीमार होने से दिल्ली प्रशासन में हड़कंप मच गया है।
तब्लीगी जमात के मरकज ( इस्लामिक सेंटर) में विदेश से भी लोग आए हुए थे। जिन लोगों को जांच के लिए ले जाया गया उनमें से एक की मौत हुई है। इसके बाद पुलिस ने पूरे इलाके को सील कर दिया है। पुलिस पूरे इलाके की ड्रोन से निगरानी कर रही है. पुलिस लगातार पेट्रोलिंग भी कर रही है, जिससे यह सुनिश्चित किया जाए कि कोई बाहर न घूम रहा हो। पुलिस अभी करीब एक हजार लोग इस्लामिक प्रचार प्रसार सेंटर के अंदर हैं।
इस इस्लामिक सेंटर में 15 देशों के 100 से ज्यादा विदेशी हैं, बाकी करीब 1000 भारतीय इसके अंदर हैं। किसी को भी बाहर निकलने की परमिशन नहीं है। करीब 200 लोगों को अलग-अलग अस्पतालों में ले जाया गया है। इन्हें खांसी और बुखार की शिकायत है। निजामुद्दीन इलाके में करीब 2000 लोगों को क्वारंटाइन किया गया है। कुछ लोगों को दिल्ली के दूसरे इलाकों में शिफ्ट किया गया है। जम्मू-कश्मीर के श्रीनगर में हुई एक मौत के इनसे कनेक्शन की बात सामने आ रही है। एहतियातन घाटी में भी लोगों को क्वारंटाइन किया जा रहा है। बता दें कि दिल्ली में अब तक कोरोना वायरस के 72 मामले सामने आ चुके हैं। राजधानी में दो संक्रमितों की मौत हो चुकी है।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

− four = one