किसने कहा कि आप वंदे मातरम और भारत माता की जय नहीं कह सकते? -लोकसभा अध्यक्ष

New Delhi : लोकसभा अध्यक्ष ओम बिड़ला ने गुरुवार को कहा कि संसद में जय श्री राम और भारत माता की जय के नारों अगर कोई विवाद उठता है तो यह दुर्भाग्य की बात है।उनको ऐसा इसलिए कहना क्योंकि मंगलवार को जब जब यूपीए अध्यक्ष सोनिया गांधी और एआईएमआईएम प्रमुख असदुद्दीन ओवैसी सहित कई नेताओं ने इस सप्ताह की शुरुआत में शपथ ली तो इन नारों से संसद गूंज उठी थी।

यह पूछे जाने पर कि क्या धार्मिक मंत्रों के बीच लोकसभा चलाना उनके लिए कठिन हो रहा है, ओम बिरला ने कहा, “इसमें कोई चुनौती नहीं है न ही कोई परेशानी है। हम सभी पार्टी नेताओं को एक साथ रखकर सदन चलाएंगे … किसने कहा कि आप वंदे मातरम और भारत माता की जय नहीं कह सकते? ”

कांग्रेस पूर्व अध्यक्ष और रायबरेली लोकसभा सीट से सांसद सोनिया गांधी को जब मंगलवार को शपथ के लिए बुलाया गया तो सांसदों ने उनका स्वागत भारत माता की जय ’और जय श्री राम’ के नारों के साथ किया।

ओवैसी को भी ‘जय श्री राम’, ‘भारत माता की जय’ और ‘वंदे मातरम’ के नारों के साथ मंगलवार को बधाई दी गई क्योंकि वे 17 वीं लोकसभा के सदस्य के रूप में शपथ लेने गए थे।

हैदराबाद निर्वाचन क्षेत्र से सांसद (सांसद) ओवैसी ने , “जय भीम, जय मीम, तकबीर अल्लाहु अकबर, जय हिंद” अपनी शपथ लेते हुए कहा।

इसके अलावा, उत्तर प्रदेश के उन्नाव से जीतने वाले भाजपा सांसद साक्षी महाराज ने सदन के सदस्य के रूप में शपथ लेने के बाद लोकसभा में “मंदिर वही बनाएंगे” (मंदिर वहीं बनाया जाएगा) के नारे लगाए गए।

आपको बता दें कि बंगाल भाजपा ममता बनर्जी पर तब बिखर पड़ी जब गुरुवार को ममता गाड़ी से उतरकर जय श्री राम का नारा लगाने वालों को डांटने लगी थी।जिसके विरोध में भाजपा नेताओं ने दीदी को जय श्री राम लिखे पोस्ट कार्ड भेजे तो किसी ने रामायण और गीता की सैकड़ों प्रतियां।

हाल ही में हुए लोकसभा चुनावों में भाजपा ने बंगाल की 42 सीटों में से 18 सीटों पर जीत दर्ज की है। वहीं पिछला बार 34 सीटें जीतने वाली तृणमूल कांग्रेस इस बार सिर्फ 22 सीटें ही जीत पाई। भाजपा का इन चुनावों में 40 प्रतिशत वोट ळेयर रहा। वही तृणमूल का 43 प्रतिशत रहा।