मैं जब भी थियेटर में फिल्मों के पोस्टर देखती, सोचती एक दिन मेरे बेटे का पोस्टर भी यहाँ होगा

New Delhi : नवाजुद्दीन सिद्दीकी आज 19 मई को 46 साल के हो गये। अपने करियर के शुरुआती दस साल के जबरदस्त स्ट्रगल के बाद उन्होंने पिछले दस सालों में इतनी सफलता देखी है, जिसकी बस कल्पना की जा सकती है। एक दमदार एक्टर के रूप में उन्होंने फिल्म इंडस्ट्री में अपनी धाक जमा ली है। आइये जानते हैं उनके स्ट्रगल और सफलता की कहानी उनकी अम्मी मेहरुनिसा सिद्दीकी की जुबानी जिसे अलग-अलग जगह से संग्रहित कर पिरोया गया है अम्मी के ही शब्दों में…

मुझे अपने बेटे की उत्तर प्रदेश के मुजफ्फरनगर से मुंबई तक की यात्रा पर गर्व है। अपनी इंटरमीडिएट की पढ़ाई के बाद, नवाज हरिद्वार में पढ़ने चले गये, क्योंकि हमारे गाँव में उच्च शिक्षा की सुविधाएँ नहीं थीं। हमारे परिवार के किसी भी व्यक्ति ने उनसे अभिनेता बनने की उम्मीद नहीं की थी। जब वह छोटा था, मैंने सोचा था कि हम उसे डॉक्टर बनायेंगे, लेकिन फिर मेरे पति और मैंने देखा कि उनका झुकाव सिनेमा और अभिनय की ओर था। मेरे पति फिल्मों के शौकीन थे और हमने उन्हें कभी सपनों का पीछा करने से नहीं रोका।
एक माँ के रूप में, मैं उस संघर्ष के बारे में सोचकर चिंतित हो जाती थी जो वह कर रहा था, लेकिन मुझे विश्वास था कि वह इसे बड़ा बना देगा। वह नेशनल स्कूल ऑफ ड्रामा से पास हुये। यह उनकी लगन और मेहनत है जो उन्हें यह स्थान और इज्जत मिली है। अपने पूरे जीवन एक गाँव में रहने के बाद, मैं उनके बहुत काम को नहीं समझ पाई। लेकिन मुझे पता है कि उनके पास आगे बढ़ने और चमकने की क्षमता है। शुरू में जब मैं देहरादून जाती थी, जहाँ मेरे दूसरे बच्चे पढाई करते थे। वहां आने जाने में मैं कई थियेटर के सामने से गुजरती, फिल्मों के पोस्टर देखती और सोचती एक दिन मेरे बेटे का पोस्टर भी यहाँ होगा। मैं नवाज़ के बारे में सोच सोच कर रातों की नींद हराम कर लेती थी।
मेरे लिए, वह अभी भी एक बच्चा है और मुझे बहुत गर्व है कि वह अभी भी विनम्र है। जमीन से जुड़ा हुआ है। मैं अल्लाह की शुक्रगुजार हूं कि उन्होंने मुझे उनके जैसा बेटा दिया। मुझे ही नहीं, हमारे पूरे परिवार को उस पर बहुत गर्व है। हमारे प्रति उनका व्यवहार और दृष्टिकोण नहीं बदला है। मैंने कुछ पुरानी फिल्में देखी हैं और अब मैं केवल उनकी फिल्में देखती हूं। एक बार, मुझे याद है जब मैं उनकी फिल्म देखने गई थी, जहां उन्हें पीटा गया था, मैं वास्तव में सिनेमा हॉल में चिल्लाने लगी थी क्योंकि वह मेरे बेटे की पिटाई कर रहे थे। मुझे पता था कि वह अभिनय कर रहे थे, लेकिन यह प्रतिक्रिया बहुत त्वरित थी। नवाज सात भाई-बहनों में सबसे बड़े हैं और वह उन सभी के लिए एक संरक्षक और दोस्त हैं।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

− 1 = nine