इससे बुरा क्या होगा : अब दुनिया में चौथा नंबर, विश्व में सबसे तेज रफ्तार से कोरोना बढ़ रहा है भारत में

New Delhi : भारत कोरोना से विश्व का चौथा सबसे संक्रमित देश बन गया है। अब तक इस लिस्ट में भारत छठे नंबर पर था। पिछले कुछ दिनों में अपने यहां कोरोना संक्रमितों की संख्या में तेजी आई है। एक दिन के अंदर दो देश स्पेन और इंग्लैंड पीछे छूट गये। भारत कोरोना संक्रमण के मामले में उनसे आगे निकल गया। अब इंग्लैंड पांचवें नंबर पर और स्पेन छठे नंबर पर है। बुधवार तक यूके चौथे और स्पेन पांचवें नंबर पर था।

भारत से आगे अब सिर्फ तीन देश बचे हैं- अमेरिका, रूस और ब्राजील। अगर अपने यहां कोरोना मामले बढ़ने की यही रफ्तार बनी रही तो 25 से 30 अगस्त के बीच भारत दुनिया में दूसरा सबसे ज्यादा संक्रमित देश बन जायेगा। तब तक ब्राजील में इससे भी ज्यादा खराब हालत होगी। ब्राजील में मामले मौजूदा रफ्तार से ही आगे बढ़ते रहे तो वह 25 जुलाई तक अमेरिका को पीछे छोड़ते हुए कोरोना प्रभावित देशों की लिस्ट में पहले नंबर पर पहुंच जायेगा।

कोरोना से प्रभावित टॉप-6 देशों में भारत का ग्रोथ रेट सबसे ज्यादा है। यहां संक्रमितों की संख्या 4.30% की दर से बढ़ रही है। ब्राजील दूसरे नंबर पर है, जहां 4.26% की ग्रोथ रेट है। ये आंकड़े WHO यानी, विश्व स्वास्थ्य संगठन के हैं। सबसे कम ग्रोथ रेट स्पेन का है। यहां संक्रमितों की संख्या 0.10% की दर से बढ़ रही है।
इधर इंडियन काउंसिल ऑफ मेडिकल रिसर्च (आईसीएमआर) ने आंकड़ों के साथ यह साफ कर दिया है कि देश अभी कोरोना वायरस के तीसरे चरण या कम्युनिटी स्प्रेड की स्थिति में नहीं है। हालांकि, आईसीएमआर ने यह भी कहा है कि आबादी के बड़े हिस्सा को अब भी कोविड-19 का खतरा है। आईसीएमआर ने कोरोना वायरस की सही स्थिति का आंकलन करने के लिए 83 जिलों में सीरो-सर्वेक्षण किया है। इनमें 0.73 प्रतिशत आबादी के कोरोना वायरस के पहले संपर्क में आने के सबूत मिले हैं। आईसीएमआर ने कहा – सीरो-सर्वेक्षण दर्शाता है कि कोरोना वायरस को नियंत्रित करने में लॉकडाउन और संक्रमण को काबू करने के लिये उठाये गये कदम सफल रहे।

आईसीएमार के डायरेक्टर जनरल बलराम भार्गव ने कहा- भारत एक बहुत बड़ा देश है और प्रसार बहुत कम है। भारत कम्युटी ट्रांसमिशन में नहीं है। हमें जांच करना, संक्रमित लोगों के संपर्क में आये लोगों का पता लगाना, प्रभावी निगरानी बनाये रखना, कोविड-19 को रोकने की रणनीति लागू करना जारी रखना होगा। आईसीएमआर ने कहा – भारत में प्रति एक लाख की आबादी पर कोविड-19 के मामले (20.77) हैं, जबकि वैश्विक औसत 91.67 है।

बुधवार को दिल्ली के स्वास्थ्य मंत्री सत्येंद्र जैन ने कहा था – दिल्ली में कम्युनिटी ट्रांसमिशन हो रहा है, लेकिन इसकी घोषणा केंद्र सरकार को करनी है। दिल्ली डिजास्टर अथॉरिटी की एक बैठक के बाद मंत्री ने कहा कि सरकार को दिल्ली में 50 फीसदी मरीजों के संक्रमण का स्रोत नहीं पता चल पा रहा है।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

sixty two + = 71