भाजपा ने राजनीति में वंशवाद के किले को ढा दिया है : राम माधव

New Delhi : भारतीय जनता पार्टी के राष्ट्रीय महासचिव राम माधव ने कहा कि ‘हमने भारत के लोगों को एकजुट किया है। और यही एकजुटता हमारी प्रचंड जीत की कारण है। हमारी पार्टी ध्रुवीकरण या तुष्टिकरण करके सत्ता में दोबारा नहीं लौटी है। भाजपा राजनीतिक खेल , खेलकर सत्ता में नहीं लौटी है। वास्तव में, हम इन सभी को ध्वस्त करके और भारत के लोगों को एकजुट करके दोबारा सत्ता में लौटे हैं । नैतिक मूल्यों का पालन करते हुए सत्ता में लौटे हैं’। यह सब बातें माधाव महाराष्ट्र में आयोजित एक कार्यक्रम में कह रहे थे।
माधव ने वंशवाद की राजनीति पर करारा हमला बोलते हुए कहा कि – कुछ साल पहले तक वंशवाद राजनीति की एक पहचान होती थी , भाजपा ने उसे ध्वस्त किया है। उन्होंने कहा, “इस देश में, वंशवादी पहचान को राजनीति के लिए एक बड़ी योग्यता माना जाता था। इसमें कुछ भी गलत नहीं है, लेकिन लोगों को उनकी दक्षता के माध्यम से आगे आना चाहिए, न कि केवल उनके उपनाम के साथ।”

8 जून को माधव ने अपने एक बयान में कहा था कि – माधव ने कहा कि – “मोदी जी की भाजपा इस देश की वर्तमान है। और भविष्य में भी भाजपा मोदी जी की नीतियों वाली ही रहेगी। 2022 में, हम एक नया भारत बनाएंगे, जहां कोई बेघर नहीं होगा, बेरोजगारी समाप्त हो जाएगी। 2047 में आजादी के 100 वर्ष पूरे हो जायेंगे। 2047 तक भारत , भाजपा के नेतृत्व में विश्व गुरु बन जाएगा। माधव ने आगे कहा कि – “राष्ट्रवाद भाजपा के डीएनए में है। और यही भाजपा की मजबूती भी है। यह भाजपा की पहचान है। ऐसा नहीं है कि भाजपा चुनाव के समय ही राष्ट्रवाद दिखाती है। चुनाव हो या नहीं भाजपा का मतलब राष्ट्रवाद है , और रहेगा”।