विकास की मां बोली- उसने खानदान को तबाह कर दिया, पकड़ में आये तो भी पुलिस इनकाउंटर करो

New Delhi : कानपुर कांड के आरोपी विकास दुबे के भाई दीपू के लखनऊ स्थित आवास पर जब पुलिस ने दबिश दी तो वहां उसकी मां सरला देवी मिलीं। सरला देवी ने कहा – मेरा बेटा अपराधी है। उसे बहुत समझाया कि यह रास्ता छोड़ दो, लेकिन उसने किसी की नहीं सुनी। लॉकडाउन के पहले उससे मुलाकात हुई थी। वह अपने पत्नी व बच्चों के साथ दूसरे घर में रहता है। बेटे की वजह से उनके पूरे परिवार की बदनामी होती है। घर का एक लड़का भी खराब निकल जाये तो पूरे परिवार का सत्यानाश हो जाता है। उनके परिवार के साथ भी ऐसा ही हो रहा है। मैं तो चाहती हूं कि सरकार उसको सरेंडर नहीं कराये। अगर वो पकड़ में आये तो भी नहीं। पुलिस उसकी जान ले ले। और यह बोलते बोलते मां रोने लगी।

हिस्ट्रीशीटर विकास दुबे की मां अक्सर बीमार रहती हैं। उन्होंने बताया – मेरा एक बेटा अब नहीं रहा। छोटे बेटे दीपू की पत्नी अंजली बकेरू गांव में 10 साल से प्रधान है। उसके काम से खुश होकर राष्ट्रपति अब्दुल कलाम भी दिल्ली में अंजली को पुरस्कृत कर चुके हैं। अंजली की उन्होंने खूब तारीफ की। मां ने कहा- कानपुर की घटना के बारे में कुछ मालूम नहीं है। टीवी देखकर सुबह बहू ने इस बारे में बताया। अंजली के पति दीपू किसान हैं।
इधर मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने घटना में शहीद पुलिसकर्मियों को श्रद्धांजलि देते हुए मामले की पूरी रिपोर्ट तलब की है और बदमाशों को तुरंत पकड़ने के आदेश दिये हैं। मुख्यमंत्री ने कानपुर एनकाउंटर में शहीद आठ पुलिसकर्मियों के परजिनों के लिए एक-एक करोड़ रुपए मुआवजे का ऐलान किया है। उन्होंने घोषणा की है – प्रत्येक परिवार से एक-एक व्यक्ति को सरकारी नौकरी दी जायेगी।

असाधारण पेंशन की व्यवस्था भी की जाएगी। हिस्ट्रीशीटर विकास दुबे को पकड़ने गई पुलिस पर फायरिंग में आठ जवानों की शहादत के बाद मुख्यमंत्री योगी और डिप्टी सीएम केशव प्रसाद मौर्या घटना स्थल पर पहुंचे। यहां पर डीजीपी हितेश चंद्र अवस्थी समेत तमाम आला पुलिस अफसर मौके पर मौजूद रहे।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

fifty six − forty six =