अमेरिका के राष्ट्रपति ट्रंप ने कहा – गर्म और नम वातावरण में कोरोना के जिंदा रहने की संभावना कम

New Delhi : Corona आपदा पर काबू पाने के लिए दुनियाभर में शोध चल रहे हैं। इस बीच, अमेरिकी राष्ट्रपति Donald Trump ने गुरुवार को कहा है कि कोरोना वायरस के गर्म और नम वातावरण में जिंदा रहने की संभावना कम रहती है। इसके लिए उन्होंने अमेरिकी डिपार्टमेंट ऑफ होमलैंड सिक्युरिटीज (डीएचएस) की रिपोर्ट का हवाला दिया। ट्रम्प ने व्हाइट हाउस में प्रेस कॉन्फ्रेंस के दौरान बताया कि DHS के वैज्ञानिकों ने एक रिपोर्ट जारी की है। इसमें बताया कि वायरस विभिन्न तापमानों, जलवायु और सतहों पर कैसे प्रतिक्रिया करता है।

लॉकडाउन की वजह से भारत में अच्छे परिणाम आ रहे हैं।

ट्रंप ने बताया कि शोध में खुलासा हुआ कि इस संक्रमण के ठंडे और शुष्क मौसम में ज्यादा वक्त जिंदा रहने की संभावना होती है और गर्म और अधिक नमी वाले मौसम में यह जल्द खत्म हो जाता है। उन्होंने कहा कि मैंने पहले यह बात कही थी तब किसी ने गंभीरता से नहीं लिया, लेकिन अब इसकी पुष्टि हो रही है। अमेरिकी डिपार्टमेंट ऑफ होमलैंड सिक्युरिटीज में साइंस और टेक्नोलॉजी के प्रमुख बिल ब्रायन ने बताया – जब यह संक्रमण तेज धूप के संपर्क में आता है तो यह खत्म हो जाता है। इसी तरह का हाल नमी वाले वातावरण में होता है। इसोप्रोपाइल अल्कोहल भी इस वायरस को 30 सेकंड में मार देता है। हमारे शोध में इसका भी पता चला कि यह वायरस सूर्य की रोशनी में सतह और हवा दोनों जगहों पर खत्म जाता है। ब्रायन ने इस पर भी जोर दिया कि हमारे यह परिणाम अभी शुरुआती दौर में हैं। हम लगातार जानकारी जुटाने की कोशिश कर रहे हैं।

चीन पर प्रयोगशाला में कोरोना वायरस बनाने का आरोप

ट्रम्प ने गुरुवार को बताया कि हम कोरोना की वैक्सीन बनाने के बेहद करीब हैं। उन्होंने बताया कि हमारी लैब में दुनिया के सबसे महान वैज्ञानिक काम कर रहे हैं। जल्दी ही वैक्सीन हमारे पास होगी। इधर, चीन, जर्मनी और यूके ने भी वैक्सीन के इंसानों पर ट्रायल की बात की है। ब्रिटेन की ऑक्सफोर्ड यूनिवर्सिटी ने कोरोनावायरस से लड़ने के लिए दवा तैयार की है और इसका इंसानों पर ट्रायल शुरू कर दिया गया है। वैज्ञानिकों का दावा है कि इस वैक्सीन में सफलता के 80% चांस हैं। इस दवा के ट्रायल प्रोग्राम के लिए करीब 187 करोड़ रुपए खर्च किए हैं। ब्रिटेन के स्वाथ्य मंत्री मैट हैनकॉक ने कहा कि आखिरकार हम दुनिया के पहले देश हैं, जिसने ऐसी दवा विकसित की है। हम इस जानलेवा वायरस की दवा ढूंढने के लिए अपना सबकुछ लगा देंगे।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

seven + 2 =