अमेरिका ने वेनेजुएला के रक्षा और सुरक्षा क्षेत्रों पर लगाया प्रतिबंध

अमेरिका ने शुक्रवार को वेनेजुएला के रक्षा क्षेत्र में काम करने वाली दो शिपिंग कंपनी पर प्रतिबंध लगा दिया। वेनेजुएला के रक्षा और सुरक्षा क्षेत्रों में काम करने वाली कंपनियों पर इस तरह का प्रतिबंध लगाया जा सकता है। यूएस डिपार्टमेंट ऑफ स्टेट ने एक बयान में कहा कि हमलोग दो कंपनियों, मॉनसून नेविगेशन कॉर्पोरेशन और सेरेनिटी मैरीटाइम लिमिटेड का पता लगाया हूं, जो वेनेजुएला के तेल क्षेत्र में काम करती हैं। इसके अलावा ऐसी ही दो जहाजों की भी पहचान की है।

अमेरिकी ट्रेजरी सचिव स्टीवन म्नुचिन ने कहा कि अगर क्यूबा इसी तरह मिलिट्री सहायता के बदले वेनेजुएला का तेल आयात करते रहेगा, तो इसके ऊपर आगे की कार्रवाई की जायेगी।  ट्रेजरी ने आज वेनेजुएला की सैन्य और खुफिया सेवाओं पर एक्शन लिया है। इसके अलावा उन सभी पर एक्शन लिया जायेगा, जो अवैध मादुरो का समर्थन करता है।

प्रतिबंध लगने के कारण अमेरिकी अधिकार क्षेत्र में आने वाली संस्थाओं और उसकी प्रोपर्टी को ब्लॉक कर दिया जायेगा। जिसकी रिपोर्ट Office of Foreign Assets Control (OFAC) को सौंपा जाना चाहिए। वेनेजुएला के विपक्षी नेता जुआन गुआडो का अमेरिका समर्थन करता है, इसीलिए वेनेजुएला सरकार के खिलाफ आर्थिक प्रतिबंधों और कूटनीतिक अलगाव की नीति अपना रहा है। समाचार एजेंसी Xinhua की रिपोर्ट के अनुसार, मंगलवार को अमेरिकी उपराष्ट्रपति Mike Pence ने वेनेजुएला के 25 मजिस्ट्रेटों के संभावित प्रतिबंधों की चेतावनी जारी की थी। हालांकि, वेनेजुएला के सुप्रीम कोर्ट ऑफ जस्टिस (टीएसजे) ने बुधवार को Mike Pence की चेतावनी को नजरअंदाज कर दिया और यह भी कहा कि यह एक तरह की धमकी है, जबकि वेनेजुएला एक स्वतंत्र राष्ट्र है।

वेनेजुएला वर्तमान में एक राजनीतिक संकट और संसाधनों की कमी के दौर से गुजर रहा है। हालांकि नया चुनाव कराने भी बात उठी, लेकिन वेनेजुएला के राष्ट्रपति मादुरो आर्मी के सपोर्ट से अपने पद पर बने रहें। गुआदो ने जनवरी में वेनेजुएला के राष्ट्रपति के खिलाफ विरोध प्रदर्शन किया था और खुद को वेनेजुएला के राष्ट्रपति के रूप में घोषित किया था, जिसका अमेरिका ने समर्थन किया था। जिसे वर्तमान में फ्रांस, जापान, ब्रिटेन, अमेरिका सहित 50 से अधिक देशों द्वारा वेनेजुएला के आधिकारिक राष्ट्रपति के रूप में मान्यता मिल चुका है।