मोबाइल टेरिफ चल रहा है कछुआ चाल, क्या मोबाइल सेवाएं हो जाएंगी महंगी

New Delhi : टेलिकॉम ऑपरेटर भारती एयरटेल ने बयान दिया है कि मोबाइल के रेट फिक्स नहीं है और उनसे मिल रही सुविधाओं के हिसाब से दाम कम हैं। कंपनियों को मुनाफे के लिए टेरिफ रेट बढ़ा देना चाहिए। अगर ऐसा कर दिया गया तो बहुत से लोग मोबाइल सेवाओं से पिछड़ सकते हैं। 

गोपाल विट्ठल जो एयरटेल इंडिया और साउथ एशिया के एम डी और सीईओ हैं उन्होंने रिलायंस के हाल ही में 6 पैसे एक मिनट के प्लान की निंदा की है। गोपाल कहते हैं कि रिलायंस द्वारा किया गया ये काम टेरिफ का हिस्सा नहीं है बल्कि ऑपरेटर्स को कॉल ट्रांसफर के लिए दिया जाने वाला पैसा है।

5G जल्द ही आएगा।
5G जल्द ही आएगा।

लेकिन रिलायंस का कहना है कि वो जितना पैसा चार्ज करेगी उतने का ही डाटा यूजर्स को देगी जिससे हिसाब बराबर हो जाएगा। इंडिया मोबाइल कांग्रेस में विट्ठल कहते हैं कि हमें पता है कि टेरिफ मेनटेन करना मुश्किल है। टेरिफ बढ़ने भी चाहिए और हमने दोनों में बैलेंस बनाए रखने की कोशिश भी की है।

ड्रीम गर्ल हेमा मालिनी, जिन्होंने जीतेंद्र को छोड़ धर्मेंद्र से कर ली थी शादी
आने वाले समय में 5जी स्पेक्ट्रम की बोली लगने वाली है। जिस तरह से स्पेकट्रम की कीमत बढ़ा दी गई है, 5जी बिजनेस बहुत महंगा होने वाला है। गोपाल कहते हैं कि कंपनियों को मुनाफे तक पहुंचाने के लिए दो हैट पहनने का समय आ गया है। एक हैट कंपनी के लिए और दूसरी देश के लिए। टेलिकॉम इंडस्ट्री बदलाव ला सकती है अगर स्टेकहॉल्डर अगर काम को आगे बढ़ाने के मए तरीकोे खोजना शुरू कर दें।