जनता के भले के लिए महाराष्ट्र में बीजेपी-शिवसेना को सरकार बनानी चाहिए : नितिन गडकरी

New Delhi : महाराष्ट्र में राजनीतिक संकट के बादल गहराते जा रहे है। भाजपा और शिवसेना मुख्यमंत्री पद को लेकर दूरियां बढ़ती जा रही हैं। इसी बीच केंद्रीय मंत्री नितिन गडकरी ने कहा है कि अभी भी समय है। मुझे लगता है, लोगों के कल्याण के लिए, बीजेपी-शिवसेना को मिलकर सरकार बनानी चाहिए। जहां तक 50-50 के फॉर्मूले का सवाल है, अमित शाह जी ने ऐसा कोई वादा नहीं किया था।

इससे पहले देवेन्द्र फडणवीस ने महाराष्ट्र के मुख्यमंत्री पद से इस्तीफा दे दिया है। भाजपा ने प्रेस कॉन्फ्रेंस में इस बात का ऐलान किया। प्रेस कॉन्फ्रेंस में फडणवीस ने शिवसेना पर जम का निशाना भी साधा। उन्होंने कहा कि सरकार ना बनाना जनादेश का अपमान है। खरीद-फरोख्त के झूठे आरोप लगाए गए।

देवेंद्र फडणवीस ने मीडिया से बात करते हुए कहा कि शिवसेना के नेता उद्धव ठाकरे ने नतीजे के बाद पहली प्रेस कॉन्फ्रेंस में विकल्प खुले होने की बात कही, हमें इस बयान से झटका लगा। हमें काफी दुख हुआ।

उन्होंने आगे कहा कि जब तक कोई वैकल्पिक व्यवस्था तैयार नहीं हो जाती, राज्यपाल ने मुझे कार्यवाहक मुख्यमंत्री रहने को कहा है। उन्होंने आगे कहा कि पिछले 5 सालों में 4 साल सूखा रहा, हम किसानों के साथ खड़े रहे। गांवों में पानी पहुंचाने का काम किया।

आपको बता दें कि राज्य में जारी राजनीतिक गतिरो’ध के बीच बीजेपी ने शिवसेना के साथ किसी भी मुद्दे पर बातचीत करने के लिए अपनी तैयारी दर्शाई है। वहीं शिवसेना ने कहा है कि बीजेपी यदि लिखित प्रस्ताव दे तो चर्चा की जा सकती है।
बता दें कि 21 अक्टूबर को 288 सदस्यीय महाराष्ट्र विधानसभा के लिए हुए चुनावों में बीजेपी ने 105 सीटों, शिवसेना ने 56, राकांपा ने 54 और कांग्रेस ने 44 सीटों पर जीत दर्ज की थी।