दो लड़कियों ने राष्ट्रपति को लिखी खू’न से चिट्ठी , मदद की लगाई गुहार

New Delhi : पंजाब के मोगा शहर की रहने वाली दो लड़कियों ने अपने ख़ून से लिखी चिट्ठी राष्ट्रपति रामनाथ कोविंद को भेजी है जिसमे उन्होंने उनके खिलाफ दायर “झूठे मामलों” में मदद मांगी है।

राष्ट्रपति को लिखे पत्र में उन्होंने दावा किया है कि शिकायतकर्ता क’बूतरबाज़ी (मानवतस्करी) के नाम पर उन्हें ध’मकी दे रहे है साथ में उनके खिलाफ धोखाधड़ी के मामले भी दर्ज़ कराये गये है। इन झूठे आरोपों के कारण वह काफी लम्बे से डर के साये में रह रहे है। साथ ही पत्र में उन्होंने न्याय नहीं मिलने पर पुरे परिवार के लिये इच्छा मृत्यु की मांग भी की है।

दोनों लड़कियों निशा और अमनजीत कौर ने बताया उनके खिलाफ भारतीय दंड सहिंता की धारा 420 के तहत कबूतरबाज़ी (मानवतस्करी) और धो’खाधड़ी के दो झूठे मामले पुलिस ने दर्ज़ किये है। हमने पुलिस को बताया की हमारे खिलाफ झूठे केस दर्ज़ किये गए है पुलिस उनकी जांच करे लेकिन कोई भी उनकी बात सुनने को तैयार नहीं है। साथ ही दोनों ने कहा की ‘अगर उन्हें न्याय नहीं मिलता है तो हमें इच्छा मृ’त्यु दे दी जाए’.

मोगा पुलिस के डीएसपी कुलजिंदर सिंह ने लड़कियों द्वारा पुलिस पर लगाये गए आरोपों को ख़ारिज कर दिया है.उन्होंने कहा दोनों लड़कियों के आपराधिक मामलें दर्ज़ है जिनकी पुलिस द्वारा जांच की जा रही है।

पुलिस ने कहा ये दोनों लड़कियां मेरे पास आई थीं उन्होंने बताया की वो दोनों पैसे के लेन -देन का काम करती है। जिस कारण उन्हें सुरक्षा के तौर पर एक चेक मिला था। अन्य पक्ष ने उनके बेटे को विदेश भेजने के लिए पैसे दिए थे। जिसके बाद उन्हें कबूतरबाजी का एजेंट मानकर केस दर्ज़ कर  दिया।
पुलिस ने कहा हमें  पता चला है कि लड़कियों ने राष्ट्रपति को पत्र भेजा है लेकिन मुझे इसकी  अभी तक कोई आधिकारिक सुचना नहीं मिली है .हम जल्द ही मामले की जाँच कर सुलझा लेंगे।