कोरोना की जांच प्रक्रिया

ढाई साल के बच्चे ने बिना दवाई खाये कोरोना को मात दी, डाक्टर ने कहा – उसे दलिया डाइट दी, ठीक हो गया

New Delhi : लखनऊ के किंग जॉर्ज मेडिकल कॉलेज में भर्ती ढाई साल के बच्चे ने कोरोना के खिलाफ जंग जीत ली है। सिर्फ पांच दिनों में बच्चा पूरी तरह से ठीक हो गया और उसे अस्पताल से छुट्टी दे दी गई। खास बात यह है कि बच्चे ने बिना किसी दवा के ही कोरोना को मात दी है। बच्चे का इलाज करने वाले डॉ. डी. हिमांशु ने बताया कि दवाओं से बच्चे को साइड इफेक्ट्स हो सकते थे। ऐसे में महज डाइट के दम पर बच्चे को ठीक किया गया। तीन दिन तक बच्चे को कोई दवा नहीं दी गई। उसे दलिया, खिचड़ी और दूध की खीर जैसी डाइट दी और कुछ फल व जूस भी दिए।

Demo Pic


उत्तर प्रदेश में संक्रमित मरीजों की संख्या रविवार को 480 हो गई। कोरोनावायरस संक्रमण की रोकथाम और उपचार को लेकर प्रशासन ने सांसद आजम खां के जौहर विश्वविद्यालय का अधिग्रहण कर लिया है। यहां कोरोना मरीजों को क्वारैंटाइन और आइसोलेट किया जाएगा। इससे पहले शुक्रवार को ही प्रशासन ने जिले के 9 निजी अस्पतालों और नर्सिंग होम को टेकओवर कर लिया था। उत्तर प्रदेश में अब तक आगरा में 104, लखनऊ में 32, गाजियाबाद में 27, गौतमबुद्धनगर (नोएडा) में 64 कोरोना रिपोर्ट पॉजीटिव मिला है। अभी तक 45 मरीजों को छुट्टी दी जा चुकी है।
उत्तर प्रदेश के अपर मुख्य सचिव अवनीश अवस्थी ने रविवार को बताया कि प्रदेश में 480 कोरोना संक्रमित हैं। इनमें 45 मरीज स्वस्थ होकर घर जा चुके हैं। कोरोना का संक्रमण 41 जिलों में है। राज्य में 931 वेंटिलेटर की व्यवस्था है। अभी तक आइसोलेशन में 576 मरीजों को भर्ती किया गया है जबकि 8084 लोग क्वारैंटाइन किए गए हैं। 80 फीसदी संक्रमण के मामले हॉटस्पॉट इलाकों से जुड़े हैं। उन्होंने कहा कि 15 जिलों में 133 हॉटस्पॉट चिह्नित किए गए हैं। जहां 10 लाख 61 हजार की आबादी रह रही है। प्रदेश में डोर टू डोर सामानों की डिलीवरी हो रही है। इधर दक्षिण अफ्रीका से लौटे इंजीनियर को पुलिस ने हिरासत में ले लिया। फतेहपुर के खागा थाना क्षेत्र निवासी राजेन्द्र साउथ अफ्रीका के प्राइवेट कंपनी में इंजीनियर हैं। साउथ अफ्रीका से 21 मार्च को दिल्ली पहुंचे थे। और पुलिस प्रशासन को कोई जानकारी नहीं दी। झांसी के एक गांव में डंडा लेकर महिलाएं पहरेदारी कर रही हैं। सीपरी बाजार थाना क्षेत्र के लहर गिर्द गांव में बाहरी व्यक्तियों के प्रवेश पर रोक लगा दी है। इसके लिए महिलाओं ने 5 समूह बनाए हैं। ये 3-3 घंटे की पहरेदारी करती हैं।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

thirty two + = thirty nine