मुस्लिम महिलाओं को मिलेगा न्याय, कल संसद में तीन तलाक बिल पेश करेगी मोदी सरकार

NEW DELHI: 17वीं लोकसभा के संसद का पहला सत्र शुरू हो चुका है। प्रधानमंत्री मोदी से जनता की कई अपेक्षाएं हैं तो पीएम की अपनी आकांक्षाएं भी। इसके साथ ही मोदी सरकार के कई लंबित बिल हैं जिसे सरकार जल्द से जल्द संसद में पेश करके पास करना चाहती है। इन्हीं में से एक है तीन तलाक बिल।

सूत्रों की माने तो कल संसद में तीन तलाक बिल मोदी सरकार पेश कर सकती है।

गुरुवार को ही राष्ट्रपति ने संसद के संयुक्त अधिवेशन को सम्बोधित करते हुए अपने अभिभाषण के दौरान तीन तलाक के बारे में महत्वपूर्ण बात कही।

कोविंद ने अपने अभिभाषण में कहा कि देश की हर बेटी के लिए यह जरूरी है कि भारत से तीन तलाक और निकाह ह’लाला जैसी कु’प्रथाओं को ख’त्म किया जाएं। तभी हमारे देश में बेटियां प्रगति कर पाएंगी।

राष्ट्रपति ने सभी सांसदों से अनुरोध कर कहा कि हमारी बहनों और बेटियों के जीवन को और सम्मानजनक एवं बेहतर बनाने वाले इन प्रयासों में आप भी अपना महत्वपूर्ण योगदान दें।

गौरतलब है कि कुछ दिन पहले ही नीतीश कुमार के नेतृत्व वाली जनता दल (यूनाइटेड) ने घोषणा की थी कि वह राज्यसभा में ट्रिपल तालक विधेयक पर भारतीय जनता पार्टी (भाजपा) के नेतृत्व वाली एनडीए सरकार का समर्थन नहीं करेगी।जदयू ने कहा था कि हमारा गठबंधन केवल बिहार तक है और बिहार से बाहर हम अकेले चुनाव लड़ेंगे।

आपको बता दें सत्तारूढ़ दल की ओर से मुस्लिम महिलाओं को न्याय दिलाने को लेकर तीन तलाक बिल लाया गया था। भाजपा और सहयोगी दलों के बहुमत में होने के कारण लोकसभा में ये बिल आसानी से पास हो गया था लेकिन राज्यसभा में अल्पमत में होने के कारण लंबित रह गया था।