CA से IAS टॉपर बनने का सफर- नौकरी करते हुए की UPSC की तैयारी, कभी नहीं गये कोचिंग

New Delhi : कुछ लोग छोटे-छोटे पड़ावों को ही मंजिल मानकर संतुष्ट हो जाते हैं वहीं इसके उलट वो लोग भी होते हैं जिनके इरादे ऊंचे होते हैं। ये लोग छोटे छोटे पड़ावों को हासिल जरूर करते हैं लेकिन उन्हें ही मंजिल मानकर रुकते नहीं है, उससे और आगे की सोचते हैं। आज हमारे सामने ऐसे लोगों के उदाहरणों की कमी नहीं है अगर ये लोग अपने छोटे-छोटे पड़ावों से ही संतुष्ट हो जाते तो आज उन्हें पूरी दुनिया नहीं जान रही होती। आज हम आपको ऐसे ही एक शख्स के बारे में बताएंगे, जो पहले चेटरेट अकाउंटेंट यानी CA बन अच्छी नौकरी करते हैं फिर यूपीएससी की तैयारी कर उसे भी एक अच्छी रेंक के साथ क्लियर कर आईएएस ऑफिसर बनते हैं।

इनका नाम है अतिराग चपलोत जो कि आज सीए होने के साथ ही एक आईएएस ऑफिसर भी हैं। अतिराग ने 2018 की यूपीएससी परीक्षा में ऑलओवर 15वीं रेंक लाकर अपना नाम टॉपर्स की लिस्ट में शामिल किया।
बिना कोचिंग, बिना किसी टेस्ट सिरीज को जॉइन किए 15वीं रेंक लाना वाकई काबिले तारीफ है। लोग 5 से 6 साल की कोचिंग में लाखों रुपये खर्च करने के बाद भी इस परीक्षा को क्लियर नहीं कर पाते और फिर अतिराग ने तो 15वीं रेंक के साथ टॉप किया। इसके पीछे उनकी मेहनत तो है ही साथ ही उनकी स्ट्रेटजी भी है जिसे आज आपको भी जानना चाहिए। अतिराग राजस्थान के उदयपुर के रहने वाले हैं। यहीं उनकी प्राथमिक और उच्च शिक्षा पूरी हुईं। अपनी 12वीं की परीक्षा पास करने के बाद वो ग्रेजुएशन करने के लिए मुंबई चले गए। यहां से उन्होंने बी.कॉम पूरा कर सीए की तैयारी शुरू कर दी। 2015 में अतिराग ने पहले ही प्रयास में परीक्षा पास कर ऑलइंडिया में 16वीं रेंक के साथ सीए बने।
अतिराग के सीए बनने के बाद उनकी नौकरी लग गई और वो नौकरी करने लगे। लेकिन अतिराग यहां नहीं रुके उन्होंने इससे बड़े सपने भी देखे हुए थे। उन्होंने नौकरी करते हुए ही यूपीएससी परीक्षा की तैयारी करनी शुरू कर दी। सीए जैसी नौकरी करते हुए इतनी कठिन परीक्षा में सफलता पाना आसान बात नहीं थी। लेकिन उन्होंने नौकरी नहीं छोड़ी और तैयारी करते रहे। जब उन्होंने पहली बार परीक्षा दी तो वो प्री भी क्लियर नहीं कर पाए। वो दो अंकों से इसे पास करने से चूक गए। अगले साल जब उन्होंने ये परीक्षा दी तो उनका प्री तो निकला लेकिन इस बार वो 2 ही अंकों से मेंस में रह गए। दोनों बार ही उन्होंने ये परीक्षा बिना किसी कोचिंग को जॉइन किए दी थी और साथ ही वो अपना काम भी संभाल रहे थे। दो बार परीक्षा देकर वो पास तो भले न हुए लेकिन उन्हें कई सबक मिले जिनसे उनहोंने सीखा।

इसके बाद जब वो परीक्षा दे रहे थे तो ये उनका तीसरा अटेंप्ट था। मेंस में पिछली बार वो दो नंबर से फेल हुए थे तो इस बार उन्हें विश्वास था कि सफलता जरूर मिलेगी। इस बार उन्होंने नौकरी भी छोड़ दी थी और अपना पूरा ध्यान यूपीएससी परीक्षा की तैयारी में लगा दिया था। इस बार वो प्री से लेकर मेंस और फिर इंटरव्यू सभी में पास हुए। उन्होंने परीक्षा देते वक्त अपना ओप्शनल सब्जेक्ट कॉमर्स के ही रखे थे। वो सभी को भी यही सलाह देते हैं कि बिना कोचिंग मेहनत और लगन से इस परीक्षा को पास किया जा सकता है। बस अपनी रुचि का ध्यान रखते हुए अपने ऑप्शनल विषय को चुनिये।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

+ thirty two = thirty five