देश के सबसे बड़े एयरपोर्ट को मिली सभी जरूरी मंजूरी, 45 दिनों बाद तेजी से शुरू होगा कंस्ट्रक्शन

देश के सबसे बड़े एयरपोर्ट को मिली सभी जरूरी मंजूरी, 45 दिनों बाद तेजी से शुरू होगा कंस्ट्रक्शन

By: Rohit Solanki
June 13, 14:54
0
New Delhi: मोदी सरकार द्वारा ग्रेटर नोएडा में बनने जा रहे देश के सबसे बड़े एयरपोर्ट को बाकी बची सभी जरूरी मंजूरियां मिल गई हैं। मंत्रालय ने 45 दिनों के अंदर लोगों से आपत्तियां व सुझाव मांगे हैं।

अगर कोई आपत्ति आती है तो उसपर सुनवाई होगी। इसके साथ ही जुलाई के अंत में मंत्रालय से इस एयरपोर्ट को अंतिम क्लीयरेंस मिल जाएगा, जिसके बाद जेवर एयरपोर्ट का काम तेजी से बिना रुके शुरू हो जाएगा।

अगर इन 6 बैंकों में है आपका अकाउंट तो तुरंत पढ़ें ये खबर, बड़ी कार्रवाई की तैयारी में आरबीआई
 

मंगलवार को जेवर में प्रस्तावित एयरपोर्ट को लेकर सभी जरूरी कागजी कार्यवाही पूरी कर ली गई। इस एयरपोर्ट का निर्माण पीपीपी मॉडल के तहत होगा और ग्लोबल ई-बिडिंग से डेवलपर को चुना जाएगा। यूपी सरकार ने इसे मंजूरी दे दी है। इसके साथ ही नोएडा इंटरनैशनल एयरपोर्ट लिमिटेड यानि नायल कंपनी के गठन को भी अप्रूवल मिल गया है। पर्यावरण मंत्रालय की तरफ से भी TOR क्लीयरेंस मिल गया है। पर्यावरण मंत्रालय ने आम लोगों से 45 दिन के अंदर आपत्तियां व सुझाव मांगे हैं। जुलाई के अंत तक मंत्रालय से आखिरी मंजूरी दे देगा।

BJP सांसद डीपी वत्स का बयान, बोले-पत्थरबाजों से केस वापस लेने की जगह उन्हें गोली मार देनी चाहिए
 

यमुना एक्सप्रेसवे अथॉरिटी के सीईओ डॉ. अरुणवीर सिंह ने बताया कि जेवर एयरपोर्ट को पर्यावरण मंत्रालय ने कुछ शर्तों के साथ 5 जून को मंजूरी दी थी। मंगलवार को इसका शासनादेश जारी कर दिया गया। अब इसके लिए मंत्रालय ने 45 दिनों तक ऑनलाइन आपत्तियां व सुझाव मांगे हैं। नसुनवाई के बाद आपत्तियों का निस्तारण होगा। जुलाई के अंतिम सप्ताह में फाइनल क्लीयरेंस मिलने की उम्मीद है। 

62 साल के बुजुर्ग का ऑपरेशन करते हुए फूले डॉक्टरों के हाथ पांव, पेट में मिला 17 किलो का ट्यूमर
 

डॉ. सिंह के मुताबिक, वन विभाग यहां पहले ही मंजूरी दे चुका है। उन्होंने बताया कि जेवर एयरपोर्ट के संचालन के लिए बनाई गई नोएडा इंटरनैशनल एयरपोर्ट कंपनी लिमिटेड को भी यूपी कैबीनेट ने मंजूरी दे दी है। इस कंपनी में नोएडा, ग्रेटर नोएडा, यमुना अथॉरिटी, यूपी सरकार शामिल हैं। इसका 29 मई को एमओयू हो चुका है। नोएडा अथॉरिटी और यूपी सरकार का शेयर सबसे अधिक है। तीसरा महत्वपूर्ण फैसला निर्माण के लिए ग्लोबल टेंडर के लिए हुआ है। तय हो गया है कि निर्माण पीपीपी मॉडल पर होगा। इसके लिए डिवेलपर चुनने के लिए ग्लोबल ई-बिडिंग की जाएगी। इसे भी शासन से मंजूरी मिल गई है और शासनादेश जारी हो गया है। अब अथॉरिटी एयरपोर्ट के निर्माण के लिए ग्लोबल टेंडर निकालने की तैयारी करेगी।

आप हमारे वीडियो यूट्यूब पर भी देख सकते हैं

हर ताज़ा अपडेट पाने के लिए के फ़ेसबुक पेज को लाइक करें।