राज्य सभा में सोमवार को पेश होगा तीन तलाक बिल, एक बार फिर पार्टी नेताओं के बीच होगा घमासान

New Delhi: लोकसभा में तीन तलाक बिल पास होने के बाद अब 31 दिसंबर यानी सोमवार को राज्य सभा में पेश होगा। ऐसे में देखना होगा कि, क्या राज्य सभा में भी बिल पास हो पाता है या नहीं। जाहिर है बिल को लेकर घमासान एक बार फिर देखने को मिलेगा। लोकसभा में जब बिल पेश किया गया था तो पार्टी नेताओं के बीच जबरदस्त हलचल देखने को मिली थी।

 

अब राज्य सभा में तीन तलाक बिल को लेकर होगा घमसान

लोकसभा में सियासी घमसान के बाद आखिरकार तीन तलाक पास हुआ। लेकिन अब कल यानी सोमवार को इस बिल को राज्य सभा में भी पेश। जाहिर है यहां जबरदस्त घमासान देखने को मिलेगा। कांग्रेस ने भी अपने लोकसभा और राज्यसभा सांसदों को इस दिन संसद की कार्यवाही के दौरान मौजूद रहने का व्हिप जारी किया है। इसके पीछे समझा जा रहा है कि पार्टी नहीं चाहती कि उसके सांसद इस बिल पर उसके लिए स्टैंड से अलग जाएं। राज्य सभा में भाजपा के पास संख्या बल कम है और ऐसे में बिल पास करवाने के लिए काफी गहगहमी देखने को मिलेगी।

Triple talaq Loksabha

लोकसभा में पास, राज्यसभा में मिलेगी चुनौती

तीन तलाक को लेकर घमासान के बीच आखिरकार बिल पास हुआ। लेकिन अब राज्यसभा में मोदी सरकार को कड़ी चुनौती मिलने वाली है। जाहिर है वहां सरकार के पास संख्याबल कम है और ऐसे में उनको कड़ी चुनौती मिलने वाली है। जाहिर है यह फैसला मुस्लिम महिलाओं के हक़ में आया है, लेकिन कई लोग इसका विरोध जता रहे हैं। वहीं सदन के अंदर नेताओं की बयानबाजी भी देखने को मिली। जिसकी वजह से सदन थोड़ी देर के लिए स्थगित भी कर दी गई थी। बिल को पास करवाने के लिए वोटिंग की गई जिसमें महिलाओं के हक में फैसला आया। आपको बता दें कि, कई नेता जहां इस बिल के विपक्ष में हैं, तो वहीं कुछ साथ नजर आ रहे हैं।

तीन तलाक बिल पर भड़के ओवैसी

तीन तलाक बिल पास होने के बाद जहां एक तरफ ख़ुशी का माहौल देखने को मिला, तो वहीं कई नेता अपना गुस्सा जाहिर कर रहे हैं। इस कड़ी में ओवैसी ने मोदी सरकार पर आरोप लगाते हुए कहा की, यह बिल महिलाओं के खिलाफ है और उनको सड़क पर लाने वाला है। साथ ही वह कहते हैं कि, इस बिल से महिलाओं को ताकत नहीं मिलेगी, बल्कि वह कमजोर हो जाएंगी। साथ ही बिल के पास होने के बाद मर्दों को जेल में डालने का काम किया जायेगा।