सुरक्षा बलों के लिए गोपनीयता का मुद्दा है महत्वपूर्ण : सेना प्रमुख बिपिन रावत

New Delhi: सेना प्रमुख बिपिन रावत ने सुरक्षा मुद्दों से जूझने के लिए स्वदेशी प्रणाली विकसित करने की हूंकार भरी है। सुरक्षा समस्याओं जैसे संवेदनशील मुद्दों पर विदेशी निर्भरता सेना प्रमुख को नागवार है। बिपिन रावत ने कहा है कि सुरक्षा बलों के लिए गोपनीयता का मुद्दा महत्वपूर्ण है। अगर गोपनीयता के साथ समझौता किया जाता है तो आगे किसी भी योजना को सफल नहीं बनाया जा सकता है।

उन्होंने स्वदेशी प्रणाली विकसित करने पर जोर दिया और कहा है कि गोपनीयता लाने के लिए, यह महत्वपूर्ण है कि हम स्वदेशी प्रणाली विकसित करें। इस संबंध में बिपिन रावत ने जानकारी देते हुए कहा कि आज हम उन प्रणालियों पर काम कर रहे हैं जिनसे समझौता किया जा सकता है।

दिल्ली में आयोजित DEFCOM कार्यक्रम में सेना प्रमुख ने कहा है कि प्रौद्योगिकी तेजी से बदल रही है, हमें भी इसी के अनुसार बदलाव लाना होगा। साथ ही कहा है कि अगर हम खरीद चक्र में सुधार नहीं करते हैं, तो हम हमेशा अप्रचलित उपकरण के साथ काम करेंगे। संकेंद्रित हलकों में खरीद प्रक्रिया होने के बजाय, हमें चक्रीय रूप में जाने की आवश्यकता है ताकि एक साथ खरीद प्रक्रिया हो सके।

कोर ऑफ सिग्नल और भारतीय उद्योग परिसंघ (CII) द्वारा संयुक्त रूप से आयोजित DEFCOM में सूचना और संचार तंत्र पर तीनों भारतीय सेनाओं के लिए मंथन करने का यह कार्यक्रम है। इस वर्ष हो रहे DEFCOM 2019 का विषय कम्युनिकेशन ऐज ए डिसाइसिव कैटालिस्ट फॉर ज्वॉइंटनेस रखा गया है।