आतंकी हमलों पर पहले निराशा और हताशा दिखाती थी, आज जवाब सम्भवः अरुण जेटली

New delhi. भारत द्वारा पाकिस्तान के खिलाफ की गई कार्रवाई पर वित्तमंत्री अरुण जेटली ने कहा है कि पाकिस्तान द्वारा भारत पर बार-बार किए गए आतंकी हमलों के जवाब देने पर देशवासियों के लिए कल्पना, एक इच्छा, एक हताशा, एक निराशा हुआ करती थी, लेकिन सरकार की जवाबी कार्रवाई ने आतंकी खिलाफ भारत की कार्रवाई को आज यह संभव कर दिया है।

न्यूज एजेंसी यूएनआई के अनुसार  भारत के जवावी हमले के बाद भारत-पाक के बीच बढ़े तनाव पर अरुण जेटली ने पत्रकारों से बातचीत में  कहा है कि पहले “सिर्फ एक कल्पना, एक इच्छा, एक हताशा, एक निराशा हुआ करती थी, लेकिन आज यह संभव है।” उन्होंने कहा कि जिस प्रकार अमेरिकी सेना ने पाकिस्तान के ऐटाबाबाद से ओसामा बिन लादेन को उठा लिया था इस प्रकार कुछ भी सम्भव है।

आपको बताते चले कि पुलवामा आतंकी हमले के बाद भारत पाकिस्तान के बीच तवान की स्थिति बनी हुई है औऱ सीमा पर दोनों तरफ से गोलीबारी होने की आशंका जताई जा रही है।
वहीं पाकिस्तान के खैबरपख्तूनख्वां और बालाकोट में भारतीय वायु सेना के हमले के बाद भारत-पाक में चल रही झ़ड़पों के बीच सेना ने उत्तराखंड के देहरादून हवाई उड्डे की सभी उड़ान सेवाओं को रद्द् कर दिया है। पुलवामा आतंकी हमले के बाद दो परमाणु शक्ति सम्पन्न राष्ट्रो भारत और पाकिस्तान के बीच कई सालों बात सबसे बड़ा तनाव है और दोनों देशों के बीत युद्ध की आशंका बन गई है। इसी बीच पाकिस्तान ने दावा किया है कि उसने भारत के दो लडा़कू विमानों को मार गिराया है। मेल ऑनलाईन खबर के मुताबित पाकिस्तान ने दावा किया है कि उसने दो जेट विमानों को मार गिराया है। पाकिस्तान का कहना है कि दोनों भारतीय विमान पाकिस्तान की सीमा में प्रवेश कर गए थे जिसके बाद दोनों को मार गिराया गया। आपकों बतातें चलें कि पुलवमा हमले के बाद भारत ने पाकिस्तान के खैबरपख्तूनख्वा और बालाकोट में हवाई हमला किया था जिसके बाद दोनों देशों के बीच युद्ध की स्थिति बन गई है।