पहली बार लेट हुई देश की पहली कॉर्पोरेट ट्रेन तेजस एक्सप्रेस, यात्रियों को मिलेगा इतना हर्जाना

New Delhi: हाल ही में शुरू की गई देश की पहली कॉर्पोरेट ट्रेन तेजस एक्सप्रेस शनिवार को पौने तीन घंटे लेट हो गई। अब अपनी शर्तों के मुताबिक IRCTC हर यात्री को मुआवजा देगा। इसके चलते इस ट्रेन में यात्रा कर रहे हर यात्री को 250 रुपये प्रति पैसेंजर के हिसाब से वापस किया जाएगा।

IRCTC के प्रवक्ता सिध्दार्थ सिंह ने बताया कि जैसा कि हमने पहले से तय किया हुआ था कि अगर ट्रेन लेट हुई तो हम मुआवजा देंगे। लखनऊ से चलने वाली तेजस एक्सप्रेस सुबह 6:10 बजे न चलकर 9:55 पर रवाना हुई। उन्होंने कहा कि यह देरी इसलिए हुई क्योंकि कानपुर के आसपास ट्रैक पर कोई डिरेलमेंट हुआ था।

IRCTC के सीआरएम अश्विनी श्रीवास्तव ने बताया कि लखनऊ से नई दिल्ली जाते हुए तेजस एक्सप्रेस के यात्रियों को फ्री में लंच करवाया गया। हर यात्री को सॉरी लिखा एक स्टीकर दिया गया।

IRCTC ने कहा कि हर्जाना पाने के लिए कोई भी यात्री IRCTC की वेबसाइट पर जाकर क्लेम का तरीका जान सकता है। वहां से इस धनराशि का क्लेम ले सकता है।

बता दें कि IRCTC ने शर्त रखी थी कि अगर तेजस लेट होती है तो मुआवजा भी दिया जाएगा। यदि ट्रेन 1 घंटे लेट होती है तो यात्री को 100 रुपये का मुआवजा दिया जाएगा। 2 घंटे की देरी होने पर 250 रुपये का मुआवजा दिया जाएगा।

तेजस एक्सप्रेस प्राइवेट कंपनी के जरिए संचालित पहली ट्रेन है। इसका संचालन इंडियन रेलवे कैटरिंग एंड टीरिज्म कॉर्पोरेशन द्वारा किया जा रहा है। यह ट्रेन लखनऊ और दिल्ली के बीच चलती है।

चलिए तेजस एक्सप्रेस का किराया भी जान लीजिए। नई दिल्ली- लखनऊ तेजस एक्सप्रेस में चेयर कार का किराया 1280 रुपये और एग्जीक्यूटिव चेयर कार का किराया 2450 रुपये रखा गया है। वहीं लखनऊ- नई दिल्ली तेजस एक्सप्रेस में चेयर कार का किराया 1125 रुपये और एग्जीक्यूटिव चेयर कार का किराया 2310 रुपये रखा गया है।