स्कूल की प्रिंसिपल को साड़ी की वजह से रेस्तरां में प्रवेश से रोका, कहा -पारंपरिक ड्रेस में नो-इन्ट्री

New Delhi : साड़ी पहनकर रेस्टोरेंट में पहुंची एक टीचर को वहाँ के कर्मचारी ने एंट्री देने से मना कर दिया। घटना 10 मार्च को नईदिल्ली के वसंत कुंज स्थित Kylin and Ivy Restaurent में हुई। गुड़गांव के Pathway senior school की Principal संगीता नागअपने पति के साथ रेस्टोरेंट में पहुंची थीं। कर्मचारी ने उनसे कहा कि हमारे यहां पारंपरिक पोशाक में आने वालों को एंट्री नहीं दी जाती।महिला ने इस घटना का वीडियो ट्वीट किया।

सोशल मीडिया पर रेस्टोरेंट का लाइसेंस रद्द करने की मांग उठ रही है। इसके बाद रेस्टोरेंट ने सफाई दी कि हमारे यहां ऐसा कोई प्रतिबंधनहीं है। केवल शॉर्ट और चप्पल पहनकर आने पर प्रतिबंध लगाया गया है।

रेस्टोरेंट के निदेशक सौरभ खनिजो ने इस घटना पर माफी मांगी। उन्होंने कहा, “जो कर्मचारी वीडियो में दिख रहा है, वह अभी नया है।हमारे यहां केवल शॉर्ट्स और चप्पल पहनकर आने पर पाबंदी है।

संगीता नाग ने जो वीडियो ट्वीट किया, वह सोशल मीडिया पर वायरल हो रहा है। वीडियो में कर्मचारी ने संगीता से कहा कि इस पहनावेको हम मंजूरी नहीं देते हैं। इस पर संगीता ने सवाल किया, “आपका बार और रेस्टोरेंट भारत में है, दिल्ली में है। इसके बावजूद आप यहांपरंपरागत पोशाक पहनकर आने पर एंट्री नहीं देते हैं?’ इस पर कर्मचारी ने जवाब दिया कि हमारे यहां पारंपरिक पोशाक को अनुमति नहींदी जाती है। इस जवाब के बाद संगीता ने कहा कि मैं यही जानना चाहती थी, धन्यवाद।

इस घटना के बाद संगीता ने वीडियो ट्वीट किया। उन्होंने लिखा, “काईलिन एंड ईवी रेस्टोरेंट में मुझे भारतीय होने पर भेदभाव वालाअनुभव मिला। यहां मुझे पारंपरिक पहनावे की वजह से एंट्री नहीं मिली। भारत में एक रेस्टोरेंट, जो स्मार्ट कैजुअल की अनुमति देता है, लेकिन भारतीय पोशाक पहनकर आने वालों को नहीं। जो कुछ भी हुआ, उसके बाद मैं भारतीय होने पर कैसे गर्व करूं?

वायरल वीडियो को पूर्व राष्ट्रपति प्रणब मुखर्जी की बेटी और कांग्रेस नेता शर्मिष्ठा मुखर्जी ने रीट्वीट किया। उन्होंने घटना पर लिखा, “क्या बकवास है। इस तरह की हरकत काईलिन एंड ईवी या जिस भी रेस्टोरेंट में हो, उस रेस्टोरेंट का लाइसेंस तुरंत रद्द कर देनाचाहिए।शर्मिष्ठा ने अपने ट्वीट को प्रधानमंत्री कार्यालय और मुख्यमंत्री केजरीवाल को भी टैग किया है।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

sixty one − = 55