सच्ची सेवा का उदाहरण हैं गुरमीत सिंह, हॉस्पिटल में गरीबों को अपने हाथों से खिलाते हैं खाना

New Delhi: गरीब नहीं जानता क्या है मजहब उसका, जो बुझाए पेट की आग वही है रब उसका। ये लाइन गुरमीत सिंह पर बिल्कुल सटिक बैठती है। गुरमीत सिंह बिहार …

Read More