फ’रार चल रहे स्वीमिंग कोच को दिल्ली से गिरफ्तार कर लाया गया गोवा, की थी नाबालिग से छे’ड़-छा’ड़

New Delhi: 16 साल की ना’बालिक कि’शोरी से छे’ड़-छा’ड़ करने के आ’रोप में गोवा के स्वीमिंग कोच सुरजीत गांगुली को रविवार को वापस गोवा लाया गया। फ’रार चल रहे कोच को शुक्रवार को दिल्ली के कश्मीरी गेट से गि’रफ्तार किया गया था। कोच के खि’लाफ गोवा में मा’मला दर्ज होने के बाद गुरुवार को जब पुलिस उसे गि’रफ्तार करने उसके घर पहुंची तब तक वो फरार हो गया था। तभी से कोच की त’लाश की जा रही थी।

स्विमिंग फेडरेशन ऑफ इंडिया (SFI) ने गांगुली पर किसी भी प्रकार की कोचिंग या अन्य गतिविधियों में शामिल होने पर प्र’तिबंध लगा दिया है। इसके साथ ही उसके द्वारा वायरल की गई उ’त्पीड़न की सभी तस्वीरें और वीडियो को इंटरनेट पर से हटा दिया गया है।

मापुसा में जिस समय यह कथित घटना हुई उस समय गांगुली गोवा तैराकी संघ में कार्यरत था। पुलिस के एक वरिष्ठ अधिकारी ने बताया कि पी’ड़िता के पिता ने गांगुली के खिलाफ पश्चिम बंगाल के हुगली जिले के रिश्र पुलिस थाने में शि’कायत दर्ज कराई थी।

केंद्रीय युवा मा’मले और खेल मंत्री किरेन रिजिजू ने भी इस मामले पर संज्ञान लिया। गोवा के खेल मंत्री मनोहर अजगांवकर ने पहले कहा था, “आरोपी सूरजजीत गांगुली के खिलाफ आ’पराधिक का’र्रवाई की जानी चाहिए।”

आपको बता दें कि पश्चिम बंगाल पुलिस ने बताया है कि पीड़िता की शिकायत पर केस दर्ज कर लिया गया है और अब मामले को गोवा ट्रांसफर किया गया है। कोलकाता के एक पुलिस अधिकारी ने बताया, ‘पीड़िता के बयान के आधार पर हमने कल औपचारिक शिकायत दर्ज की थी। यह मामला गोवा पुलिस के अंतर्गत आता है, इसलिए हमने केस को उन्हें ट्रांसफऱ किया है। गोवा पुलिस ने मामले की जांच शुरू कर दी है।’

बता दें गांगुली ने अंतरराष्ट्रीय तैराकी प्रतियोगिताओं में 12 पदक जीते थे, जो पहली बार 1984 में हांगकांग में एशियाई तैराकी चैंपियनशिप में आए थे।