दिग्विजय सिंह की जीत का दावा करने वाले मिर्ची बाबा ने मांगी पुलिस सुरक्षा, कहा- जान को खतरा है

NEW DELHI: लोकसभा चुनाव में भोपाल संसदीय क्षेत्र से कांग्रेस उम्मीदवार रहे पूर्व मुख्यमंत्री दिग्विजय सिंह की जीत की भविष्यवाणी गलत साबित होने पर स्वामी वैराग्यानंद गिरी ने अब पुलिस सुरक्षा मांगी है। दरअसल, स्वामी वैराग्यानंद गिरी रविवार (16 जून) को भोपाल आने वाले हैं। इसी के देखते हुए मिर्ची बाबा ने वकील के जरिये कलेक्टर को सूचना दी है और पुलिस सुरक्षा की मांग की है। स्वामी वैराग्यानंद गिरी उर्फ मिर्ची बाबा ने शक जताया है कि भोपाल में उनके साथ हिंसक घटना हो सकती है।

वहीं, भाजपा कार्यकर्ताओं ने कलेक्टर को लेटर लिखकर बाबा पर आरोप लगाया था कि बाबा वैराग्यानंद हिंदू धर्म से खिलवाड़ कर रहे हैं। स्वामी वैराग्यानंद गिरी रविवार सुबह 7:30 बजे एयरपोर्ट से भोपाल पहुंचेंगे। इसके बाद वह भोजपुर शिव मंदिर में पूजा करेंगे। इसके बाद वह 12:30 बजे कलेक्टर से मिलकर समाधि पर फैसला लेंगे। बता दें कि मिर्ची बाबा ने 16 जून को हवन-कुंड में ब्रह्मलीन समाधि लेने की घोषणा की थी और उन्होंने जिलाधिकारी से इसके लिए अनुमति मांगी थी। लेकिन जिलाधिकारी ने वैराग्यानंद को अनुमति देने से इंकार कर दिया और पुलिस उप महानिरीक्षक (डीआईजी) को वैराग्यानंद की सुरक्षा व्यवस्था के निर्देश दिए हैं।

भोपाल के जिलाधिकारी तरुण तिकोड़े ने डीआईजी को पत्र लिखकर कहा था कि इस तरह की अनुमति नहीं दी जा सकती है, लिहाजा संबंधित की जान माल की सुरक्षा के लिए आवश्यक कार्रवाई की जाए। ज्ञात हो कि निरंजनी अखाड़े के पूर्व महामंडलेश्वर वैराग्यानंद ने अपने अधिवक्ता माजिद अली के माध्यम से जिलाधिकारी को गुरुवार को दिए आवेदन में कहा था, “कांग्रेस प्रत्याशी दिग्विजय सिह के पक्ष में प्रचार करते हुए उनकी विजय की कामना के लिए एक यज्ञ-हवन किया था। इस दौरान संकल्प लिया था कि अगर इस चुनाव में दिग्विजय सिह को पराजय मिलती है तो हवन कुंड में ब्रह्मलीन समाधि लूंगा।”

पत्र में आगे कहा गया था, “साधु-संतों से परामर्श के बाद विधि-विधान से 16 जून दोपहर दो बजकर 11 मिनट पर ब्रह्मलीन समाधि लेने का निश्चय किया है, ताकि संकल्प पूरा कर सकूं।” वैराग्यानंद ने जिलाधिकारी से समाधि के लिए स्थान निर्धारित करते हुए स्वीकृति प्रदान करने का अनुरोध किया था।