भगोड़े स्वामी नित्यानंद ने South America में ख़रीदा अपना देश ‘kailaasa’, हिंदू राष्ट्र में नागरिकता के लिये माँगे आवेदन

New Delhi : अद्भुत है। अकल्पनीय भी। लेकिन है सौ फ़ीसदी सच। हमारे और आपके लिए एक नई खबर। लेकिन सरकार, कोर्ट और कानून के नाम पर एक जोरदार तमाचा। दरअसल हम बात कर रहे हैं रेप के आरोपी Swami Nityanand की। भारत से फरार होने में कामयाब होने के बाद उसने फिर से एक धमाका किया है। उसने South America Continent पर अपने लिए एक देश खरीदा है और नाम रखा है KAILAASA। उसके देश का अपना संविधान है और अपना कानून। उसके यहाँ सांसद भी होंगे और संसद भी। यानी हिन्दुस्तान का अपराधी और भगौड़ा एक स्वतंत्र देश का मालिक बन बैठा है।

इस देश ने अपना ऑफिसियल वेबसाइट भी लांच कर दिया है। इस ऑफिसियल वेबसाइट पर सारी जानकारी दी गयी है।जैसे, यह एक महान हिंदू राष्ट्र है और हिंदुओं की विरासत को संरक्षित और विकसित करने के लिए प्रयत्नशील है। नित्यानंद ने अपना यह देश इक्वाडोर से एक आइलैंड खरीद कर बनाया है। आइलैंड खरीदने के बाद उसने अपने इस आइलैंड का नाम कैलासा रखा है। लड़कियों के साथ अय्याशी के वीडियोज़ वायरल होने के बाद विवादों में घिरे इस स्वामी ने प्राइवेट आइलैंड पर बसाये गए अपने अलग देश के लिए नेशनल झंडा, राष्ट्रीय पक्षी, राष्ट्रीय पशु, राष्ट्रीय फूल, राष्ट्रीय वृक्ष आदि भी घोषित कर दिए हैं।


यह देश वेस्टइंडीज के त्रिनिदाद एंड टोबैगो के पास है। नित्यानंद ने अपने इस देश की वेबसाइट पर नियम, क़ानून, संविधान और एडमिस्ट्रेटिव स्ट्रक्चर की भी जानकारी दी है।
The Hindu की एक रिपोर्ट के मुताबिक़ नित्यानंद ने इस आइलैंड को ‘हिंदू राष्ट्र’ घोषित किया है।वेबसाइट पर सार्वजनिक घोषणा के जरिए ‘महानतम हिंदू राष्ट्र’ कैलासा की नागरिकता हासिल करने के लिए डोनेशन का भी आह्वान किया है ।


वेबसाइट बताती है किकैलासा एक गैर-राजनीतिक राष्ट्र है। इसका विजन पूरी तरह से मानवता पर आधारित है। यह देश हिंदू धर्म पर आधारित संस्कृति और सभ्यता के संरक्षण और पुनरुद्धार के लिए समर्पित है, जो कभी अफगानिस्तान, भारत, नेपाल, बर्मा, श्रीलंका, सिंगापुर, मलेशिया, कंबोडिया और इंडोनेशिया समेत पूरे एशिया महाद्वीप के 56 से ज्यादा देशों में फैला था। कैलासा शांतिपूर्ण, संप्रभु, सेवा-उन्मुख है और एक क्षेत्र के बजाय एक विचारधारा का प्रतिनिधित्व करता है।इसकी जड़ों में एकता के मूल सिद्धांत निहित हैं। यहां लोग शांति और सद्भाव के साथ रह सकते हैं।


‘कैलासा’ के लिए पासपोर्ट के दो संस्करणों को अंतिम रूप दिया गया है, एक सुनहरे रंग का और दूसरा लाल। झंडे का रंग मैरून है और इस पर दो प्रतीक हैं- एक सिंहासन पर नित्यानंद और दूसरा एक नंदी है। नित्यानंद ने अपने ‘देश’ के लिए एक कैबिनेट भी बनाई है और अपने एक करीबी अनुयायी ‘मॉं’ को प्रधानमंत्री नियुक्त किया है ।
वेबसाइट पर सरकार का जो ढांचा बताया गया है उसमें Goverment department and agencies सेक्शन में पहला डिपार्टमेंट office of HDH है, जो नित्यानंद के ऑफिस, सरकार के अंतर्राष्ट्रीय संबंधों के लिए जिम्मेदार है ।
इस डिपार्टमेंट की जिम्मेदारी सेक्रेटरी, डिप्टी सेक्रेटरी, एग्जीक्यूटिव सेक्रेटरी, एडमिनिस्ट्रेटिव टीम, फुल टाइम ऑफिसर, पार्ट टाइम वॉलेंटियर और एडवाइजर पर है।
बता दें, अपनी अनुयायियों के साथ बलात्कार और बच्चों को अगवा करने का आरोपी नित्यानंद देश छोड़कर भाग चुका है। बीते महीने गुजरात पुलिस ने ये जानकारी दी थी। ये भी बताया था कि नित्यानंद कर्नाटक में अपने खिलाफ बलात्कार का मामला दर्ज होने के बाद ही देश छोड़कर भाग गया था।