सुप्रीम कोर्ट ने ठुकराई डोसा किंग राजागोपाल की याचिका, तत्काल सरेंड’र करने का दिया आदेश

New Delhi: सुप्रीम कोर्ट ने डोसा किंग राजागोपाल की मुश्किलें बढ़ा दी है। कोर्ट ने उनकी याचिका को ख़ारिज करते हुए उन्हें तत्काल स’रेंडर करने का आदेश दिया है।

दरअसल, 2001 म’र्डर मामले में सरेंड’र के लिए राजागोपाल ने अपनी बीमारी का कारण बताते हुए सरेंड’र सीमा बढ़ाने की मांग की थी। इस पर कोर्ट ने राजागोपाल की सरेंड’र सीमा को बढ़ाने से इंकार कर दिया है। जस्टिस एनवी रमना की अध्यक्षता वाली बेंच ने राजागोपाल की याचिका को आज ख़ा’रिज कर दिया और उन्हें तत्काल सरेंड’र करने का आदेश दिया है।

जानिए पूरा मामला क्या है-

राजागोपाल पहले से 2 शादियां कर चुके थे और तीसरी करना चाहते थे। वो अपने ही कर्मचारी की एक बेटी को पसंद करते थे और उससे शादी करना चाहते थे। जब उन्हें मालूम हुआ कि वो महिला पहले से ही शादीशुदा है और उन्हें अन्य कोई रास्ता नज़र नहीं आया तो उन्होंने उस महिला के पति की ह’त्या करवा दी। इसके बाद उस महिला ने उनपर मु’कदमा दर्ज़ करवाया।

CBI ने भ्र’ष्टाचार और ह’थियारों की अ’वैध त’स्करी के मामले में देश के 110 ठिकानों पर की छा’पेमारी

साल 2004 में सत्र अदलात ने राजागोपाल को दो’षी पाया और उन्हें 10 साल की स’जा सुनाई। इस फैसले को राजागोपाल ने मद्रास हाई कोर्ट में चु’नौती दी थी जहाँ 2009 में इसे बदलकर उम्र कै’द की स’जा सुनाई। यहां से भी निराशा हाथ लगने के बाद राजागोपाल ने सुप्रीम कोर्ट का दरवाजा खटखटाया। यहां से भी उन्हें निराशा हाथ लगी क्योंकि SC ने भी मद्रास हाई कोर्ट के फैसले को बरकरार रखा और सरेंडर के लिए 7 जुलाई की तारीख निश्चित की थी। इसके बाद इस तारीख को आगे बढ़ाने के लिए राजागोपाल ने SC में याचिका दायर की थी जिसे कोर्ट ने नकार दिया और जल्द सरेंड’र होने के आदेश दिए ।