EVM विवाद: VVPAT को लेकर 21 विपक्षी दलो की याचिका पर सुप्रीम कोर्ट ने चुनाव आयोग को भेजा नोटिस

New Delhi: वीवीपैट को लेकर 21 विपक्षी दलों की याचिका पर सुनवाई करते हुए सुप्रीम कोर्ट ने चुनाव आयोग को नोटिस भेजा है।

सुप्रीम कोर्ट में इस मामले की अगली सुनवाई 25 मार्च को होगी। मुख्य न्यायाधीश रंजन गोगोई की अध्यक्षता वाली एक पीठ ने चुनाव आयोग को अदालत की सहायता के लिए एक वरिष्ठ अधिकारी की प्रतिनियुक्त करने के लिए कहा है।

इससे पहले 21 विपक्षी दलों ने सुप्रीम कोर्ट में याचिका दायर कर लोकसभा चुनाव मे इस्तेमाल होने वाले ईवीएम और वीवीपैट में से 50 फीसदी का निरीक्षण करने की मांग की थी। इन दलों का कहना है कि निष्पक्ष चुनावों के लिए ऐसा किया जाना जरूरी है।

Quaint Media, Quaint Media consultant pvt ltd, Quaint Media archives, Quaint Media pvt ltd archives, Live Bihar, Live India

चंद्रबाबू नायडू, अरविंद केजरीवाल सहित 21 विपक्षी दलों के नेताओं द्वारा दायर इस याचिका पर शुक्रवार को सुप्रीम कोर्ट ने सुनवाई की। याचिकाकर्ता नेताओं ने कहा था कि ईवीएम और वीवीपीएटी की विश्वसनीयता पर पहले से ही सवाल है। ऐसे में निष्पक्ष चुनाव के लिए 50 फीसदी वीवीपीएटी पर्चियों की जांच किया जाना जरूरी है।

अभी-अभी:सुप्रीम कोर्ट में मोदी सरकार ने कहा-राफेल की CAG रिपोर्ट में गलती से रह गए थे 3 पन्ने

सुप्रीम कोर्ट में याचिका दायर करने वाले नेताओं मे शरद पवार, केसी वेणुगोपाल, डेरेक ओब्रायन, शरद यादव, अखिलेश यादव, सतीश चंद्र मिश्रा, एमके स्टालिन, टीके रंगराजन, मनोज कुमार झा, फारुख अब्दुल्ला, एए रेड्डी, कुमार दानिश अली, अजीत सिंह, मोहम्मद बदररूद्दीन अजमल, जीतन राम मांझी, प्रोफेसर अशोक कुमार मिश्र शामिल है।