J&K से प्रतिबंध हटाने वाली याचिका पर SC आज करेगा सुनवाई, महबूबा की रिहाई करने की भी है अपील

New Delhi:  जम्मू -कश्मीर से धारा 370 हटाने के बाद सुरक्षा के मद्देनजर कई प्र’तिबंध लगे हैं। जैसे अभी घाटी में फोन लाइन, इंटरनेट कनेक्टिविटी, न्यूज चैनल बंद कर दिए गए हैं। जिसे लेकर कांग्रेस कार्यकर्ता तहसीन पूनेवाला ने सुप्रीम कोर्ट में याचिका दायर की है। आज सुप्रीम कोर्ट इस याचिका पर सुनवाई कर सकता है। उन्होंने अपनी याचिका में यह भी अपील की है कि ,सुप्रीम कोर्ट उम्मर अब्दुल्ला और महबूबा मुफ्ती की रि’हाई का भी आदेश जारी करे।

इस याचिका में याचिकाकर्ता ने अपील की है कि “जम्मू कश्मीर से क’र्फ्य, फोन लाइन, इंटरनेट, समाचार चैनलों पर रोक और अन्य प्र’तिबंधों को हटाया जाए। जस्टिस अरुण मिश्रा, जस्टिस एमआर शाह और जस्टिस अजय रस्तोगी की पीठ पूनावाला की इस याचिका पर सुनवाई करेगी। इनके अलावा कश्मीर टाइम्स के कार्यकारी संपादक अनुराधा भसीन ने भी सुप्रीम कोर्ट में याचिका दी है। उन्होंने यह मांग की है कि  जम्मू-कश्मीर में काम कर रहे पत्रकारों पर से पा’बंदी हटाई जाए।

इस याचिका पर भी जल्दी ही सुनवाई संभव है। नेशनल कॉन्फ्रेंस भी मोदी और शाह के फैसले के खिलाफ सुप्रीम कोर्ट पहुंच गई है। उनका कहना है कि जम्मू- कश्मीर से धारा 370 हटाया जाना ग’लत फैसला है।

बता दें कि जम्मू कश्मीर में अनुच्छेद 370 को हटाने से पहले पूरे राज्य में क’र्फ्यू लगा दिया गया था। जिससे राज्य में कोई दं’गा या अ’प्रिय घटना न हो। इसके कुछ जिलों में धारा 144 भी लगाई गई है।  हालांकि ये प्र’तिबंध सुरक्षा को बनाए रखने के लिए किए गए हैं जैसे ही हा’लात सामान्य होंगे वैसे ही सेवाएं शुरू कर दी जाएंगी। लेकिन इन क्षेत्रों में रहने वाले लोगों को बहुत मु’सीबत का सामना करना पड़ रहा है वह बाहर रह रहे अपने प्रि’यजनों से बात नहीं कर पा रहे हैं। इसके अलावा प्रशासन ने राज्य में किसी प्रकार की रैली पर भी प्र’तिबंध लगाया है। जिन लोगों को ज्यादा जरूरत का काम है उन्हें ही जांच और त’लाशी के बाद आने -जाने की इजाजत दी जा रही है।

कश्मीर में शांतिपूर्वक मनाई जा रही है ईद,अजीत डोभाल कर रहे हैं संवेदनशील इलाकों का निरंतर दौरा