ICC World Cup 2019 : एक साल के बैन के बाद विश्व कप में वापसी करेंगे स्टीव स्मिथ, बॉल टेम्परिंग में उछला था नाम

New Delhi : साल 2018 के शुरुआती महीनों में साउथ अफ्रीका के दौरे पर गयी ऑस्ट्रलियन टीम को क्रिकेट वर्ल्ड में उस समय बेइज्जती का सामना करना पड़ा जब केप टाउन में हुए दौरे के तीसरे व अंतिम टेस्ट मैच के दौरान ऑस्ट्रेलिया के कप्तान स्टीव स्मिथ और उपकप्तान डेविड वार्नर का नाम बॉल टेम्परिंग में उभरकर सामने आया। इस बॉल टेंपरिंग मामले ने विश्व क्रिकेट को झकझोर कर रख दिया था। विश्व क्रिकेट में स्टीव स्मिथ और डेविड वार्नर का नाम मौजूदा दौर के सबसे अच्छे बल्लेबाजों में गिना जाता है।

जिस समय स्टीव स्मिथ पर बॉल टेंपरिंग का आरोप लगा था उस समय वह ICC टेस्ट प्लेयर की रैंकिंग में नंबर एक की पोजीशन पर काबिज थे। टेस्ट क्रिकेट में डॉन ब्रेडमैन के 961 रेटिंग पॉइंट्स के बाद 947 रेटिंग पॉइटंस स्कोर करने वाले स्टीव स्मिथ विश्व के केवल दूसरे बल्लेबाज हैं। इतना ही नहीं स्टीव स्मिथ डॉन ब्रेडमैन के बाद टेस्ट में सबसे अधिक की औसत से रन बनाने वाले भी विश्व के दूसरे बल्लेबाज हैं। लेकिन साउथ अफ्रीका के खिलाफ बॉल टेम्परिंग के बाद क्रिकेट ऑस्ट्रेलिया (CA) ने स्टीव स्मिथ और डेविड वार्नर दोनों पर सभी तरह के क्रिकेट खेलने पर एक साल का प्रतिबंध लगा दिया था। दोनों ही बल्लेबाजों ने इस साल हुए IPL में क्रिकेट में वापसी की थी।

टॉप चार बल्लेबाजों में होता है नाम शुमार

स्टीव स्मिथ का नाम विश्व क्रिकेट में मौजूदा दौर के टॉप चार बल्लेबाजों में शुमार किया जाता है। अन्य तीन नाम है इंग्लैंड के Joe Root, भारत के Virat Kohli और न्यूज़ीलैंड के Kane Williamson. स्टीव स्मिथ का टेस्ट क्रिकेट में औसत क्रिकेट के बॉस डॉन ब्रेडमैन के बाद सबसे अधिक है। उनका बैटिंग औसत 61 के करीब है।

स्टीव स्मिथ ऑस्ट्रेलिया के लिए नंबर तीन या चार पर बल्लेबाजी करते हैं। स्टीव स्मिथ विश्व के उन कुछ बल्लेबाजों में से एक हैं जो सिर्फ अपनी गलती के कारण ही आउट होते हैं। दाएं हाथ का यह बल्लेबाज गेंदबाजों के लिए एक बुरे सपने के समान है, जो एक बार क्रीज पर अपने पैर ज़माने के बाद बहुत मुश्किल से आउट होता है। एक अच्छा बल्लेबाज होने के साथ-साथ स्टीव स्मिथ एक कुशल कप्तान भी हैं। इन्हीं की कप्तानी में IPL की टीम राइजिंग पुणे सुपरजॉइंट्स ने साल 2017 में फाइनल तक का सफर तय किया था।

स्टीव स्मिथ पर एक साल के बैन के बाद ऑस्ट्रेलिया की टीम पूरी तरह से लड़खड़ा गयी थी। जिसके परिणाम स्वरुप ऑस्ट्रेलिया की टीम को एक के बाद एक सीरीज में हार का सामना करना पड़ा था। विश्व कप में ऑस्ट्रेलिया की टीम के लिए स्टीव स्मिथ की वापसी  किसी संजीवनी बूटी से कम नहीं  है और अब यह टीम इंग्लैंड में हो रहे विश्व कप में एक मजबूत दावेदार के तौर पर मैदान पर उतरेगी। इससे पहले 2015 विश्व कप विजेता इस टीम को बेहद हल्के में लिया जा रहा था।

अंतर्राष्ट्रीय क्रिकेट में प्रदर्शन

ऑस्ट्रेलिया के लिए घरेलू क्रिकेट में न्यू साउथ वेल्स के लिए खेलने वाले स्टीव स्मिथ ने अंतर्राष्ट्रीय क्रिकेट में पर्दापण फ़रवरी 2010 में पाकिस्तान के खिलाफ मेलबर्न में T20 मैच खेलकर की थी। इसके बाद साल 2010 में वेस्ट इंडीज के खिलाफ अपने एकदिवसीय अंतर्राष्ट्रीय क्रिकेट कैरियर की शुरुआत की। इसी साल स्मिथ को पाकिस्तान के खिलाफ अपने टेस्ट कैरियर की शुरुआत करने का मौका मिला। अपने प्रारम्भिक दौर में स्मिथ को बतौर एक लेग स्पिनर टीम में शामिल किया गया था। लेकिन जल्द ही यह खिलाडी एक विशेषज्ञ बल्लेबाज के रूप में ऑस्ट्रेलिया टीम की तरफ से खेलने लगा। साल 2015 में Michael Clarke के क्रिकेट से सन्यास लेने के बाद स्मिथ को ऑस्ट्रेलिया क्रिकेट टीम का कप्तान बनाया गया।

स्टीव स्मिथ टेस्ट क्रिकेट में 23 शतक और 61.37 की शानदार औसत से 6,199 रन और एकदिवसीय क्रिकेट में 8 शतक और 41.84 की औसत से 3,431रन बना चुके हैं।