अटल जी के 94वें जन्मदिवस पर CM नीतीश कुमार का बड़ा ऐलान, पटना में लगाएगें वाजपेयी की प्रतिमा

New Delhi: पूर्व प्रधानमंत्री अटल बिहारी वाजपेयी के स्मारक ‘सदैव अटल उनके 94वें जन्मदिवस के अवसर पर राष्ट्र को समर्पित कर दिया गया। इस मौके पर राष्ट्रपति रामनाथ कोविंद, प्रधानमंत्री नरेद्र मोदी, बीजेपी अध्यक्ष अमित शाह और अन्य दिग्गज नेताओं ने राजघाट के नजदीक स्मारक पर प्रार्थना सभा में हिस्सा लिया और श्रद्धांजलि अर्पित की। आपको बता दें, अटल स्मृति न्यास सोसायटी ने उनके स्मारक सदैव अटल को बनाया है।

इस मौके पर बिहार के मुख्यमंत्री नीतीश कुमार ने बड़ा ऐलान किया। सीएम नीतीश कुमार ने कहा कि पटना में अटल बिहारी वाजपेयी की एक प्रतिमा लगाई जाएगी और जल्द ही स्थान को लेकर फैसला भी किया जायेगा। वहीं प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने अटली जी की याद में एक वीडियो शेयर की और लिखा- हम सबके प्रिय, पूर्व प्रधानमंत्री स्वर्गीय अटल बिहारी वाजपेयी जी को उनकी जयंती पर शत-शत नमन।

वहीं बीजेपी अध्यक्ष अमित शाह ने ट्वीट किया। शाह ने ट्वीट में लिखा- अटल जी ने राष्ट्र को सर्वोपरि मान राष्ट्रसेवा को अपने जीवन का ध्येय बना लिया था। अद्भुत वक्‍तव्‍य कला के धनी अटल जी ने अपने बेदाग राजनीतिक जीवन से राजनीति में उच्च आदर्श स्थापित किये। भारतीय राजनीति के ऐसे शिखर पुरुष श्रद्धेय अटल जी की जयंती के अवसर पर उन्हें कोटि-कोटि वंदन।

Bihar Chief Minister

बीजेपी के वरिष्ठ नेता विजय कुमार मल्होत्रा ने बताया कि यह मेमोरियल 1.5 एकड़ जमीन में बसा हुआ है। वहीं स्मारक में पूर्व प्रधानमंत्री अटल बिहारी वाजपेयी के कवि, मानवतावदी और एक महान नेता की छवि को प्रदर्शित किया गया है। साथ ही दीवारों पर नक्काशी की गई हुई, जिसमें उनकी कविताओं को उकेरा गया है। इसमें सबसे अच्छी बात यह रही है कि अटल जी के राष्ट्रीय स्मृति स्थल को बनाने के लिए एक भी पेड़ को नहीं काटा गया है।

अटल बिहारी वाजपेयी की जन्म 25 दिसंबर, 1928 को हुआ था और उनका निधन 93 वर्ष की उम्र में 16 अगस्त 2018 को हुआ। वाजपेयी 1996 में 13 दिन, 1998 में 13 महीने और 1999 में पांच साल के लिए देश के प्रधानमंत्री रहे। आपको बता दें कि वाजपेयी के नाम पर हिमालय की चार चोटियों का नाम रखा जा चुका है, वहीं छत्तीसगढ़ के नया रायपुर का नाम अटल नगर रखा जा चुका है। उत्तराखंड सरकार ने भी देहरादून एयरपोर्ट का नाम उनके नाम पर रख दिया है। इसके अलावा लखनऊ के प्रसिद्ध हजरतगंज चौराहा के नाम बदल कर अटल चौक किया जा चुका है।