प्रज्ञा ठाकुर की याचिका को NIA की विशेष अदा’लत ने किया खा’रिज

New Delhi: मुंबई में Special NIA Court ने प्रज्ञा ठाकुर की अदालत में एक सप्ताह में एक बार उपस्थित होने से स्थायी छूट की याचिका को खारिज कर दिया है।

प्रज्ञा ठाकुर ने इस आधार पर याचिका डाली थी की वो सांसद हैं और उन्हें दिन-प्रतिदिन संसद जाना पड़ता है। हालांकि, मुंबई की विशेष एनआईए अदा’लत ने प्रज्ञा ठाकुर को अदालत में उपस्थित होने से आज के लिए छूट दे दी है।

चमकी का क’हर: कम पड़ रहे थे बेड, कै’दियों के वार्ड को बनाया ICU

मुंबई की एक विशेष अदालत द्वारा अनुपस्थिति पर नारा’जगी व्यक्त करने के एक दिन बाद, 7 जून को भोपाल और मालेगांव वि’स्फोट के आ’रोपी सांसद प्रज्ञा सिंह ठाकुर शुक्रवार को 2008 के मामले में सुनवाई के लिए पे’श हुई और सीआरपीसी की धारा 313 के तहत उनका बयान द’र्ज कराया गया था।

मालूम हो कि एक विशेष एनआईए अदालत ने भोपाल के सांसद प्रज्ञा सिंह ठाकुर को 2008 के मालेगांव वि’स्फो’ट मामले के सिलसिले में मंगलवार को पेश होने से छूट के लिए अनुमति दे दी थी। प्रज्ञा ने कोर्ट से छूट के लिए आवेदन किया था।

चूंकि भाजपा नेता मंगलवार को अदालत के समक्ष उपस्थित नहीं हुई थी, इसलिए विशेष एनआईए न्यायाधीश विनोद पादालकर ने मामले की सुनवाई गुरुवार तक के लिए स्थ’गित कर दी। उनके वकील के अनुसार इस सप्ताह के अंत में प्रज्ञा के कोर्ट में पेश होने की संभावना थी।

अदालत ने ठाकुर और मालेगांव मामले से जुड़े अन्य सभी आरोपियों को सप्ताह में एक बार अदा’लत में पेश होने का निर्देश दिया था। भोपाल के सांसद के अलावा अन्य आरोपी लेफ्टिनेंट कर्नल प्रसाद पुरोहित, मेजर (सेवानिवृत्त) रमेश उपाध्याय, सुधाकर द्विवेदी, अजय रहीरकर, समीर कुलकर्णी और सुधाकर चतुर्वेदी हैं।