CM उद्धव से मिले सोनू, कहा- जब तक अंतिम प्रवासी अपने घर नहीं पहुंचता, मैं अपना काम जारी रखूंगा

New Delhi : बॉलीवुड एक्टर और गरीबों के मसीहा सोनू सूद ने रविवार 7 जून की रात में महाराष्ट्र के मुख्यमंत्री उद्धव ठाकरे और उनके लड़के आदित्य ठाकरे से उनके आवास जाकर मुलाकात की। इस मुलाकात के दौरान क्या बातचीत हुई इसका खुलासा नहीं हुआ है। सोनू सूद ने मातोश्री में जाकर उनसे मुलाकात की। मातोश्री से निकलते हुये सोनू सूद बोले – मैं प्रवासी मजदूरों के लिये तब तक काम करता रहूंगा जब तक कश्मीर से लेकर कन्याकुमारी तक एक-एक प्रवासी अपने घर नहीं पहुंच जाता है।

 

सोनू सूद ने मातोश्री से बाहर निकलते हुये मीडिया के सवालों का जवाब दिया – हमें उन सभी लोगों की मदद करनी है जो पीड़ित हैं और जिन्हें हमारी जरूरत है। मैं तब तक अपना यह काम जारी रखूंगा जब तक कि अंतिम प्रवासी अपने घर नहीं पहुंच जाता। कश्मीर से कन्याकुमारी तक हर पार्टी ने समर्थन किया है और मैं इसके लिए सभी को धन्यवाद देना चाहता हूं।
इस मुलाकात से पहले शिवसेना नेता संजय राउत के सोनू सूद को लेकर दिये गये बयान से महाराष्ट्र की सरकार और राष्ट्रवादी कांग्रेस पार्टी ने अपना पल्ला झाड़ लिया है। राज्य के गृहमंत्री अनिल देशमुख ने रविवार 7 जून को संवाददाताओं से बात करते हुये कहा – मुझे नहीं पता कि संजय राउत साहब ने क्या बयान दिया है। लेकिन सोनू सूद ने बहुत से श्रमिकों को उनके घर भेजकर अच्छा काम किया है। जो भी इस तरह की अच्छी पहल करेगा हम उसकी तारीफ करेंगे, सोनू सूद हों या कोई और। इससे पहले रविवार के सामना में संजय राउत ने लिखा – बहुत चालाकी से वो ‘महात्मा’ सूद बनने की ओर हैं।

 

इसके बाद संजय राउत मीडिया के सामने आये और बयान दिया – सोनू सूद एक अच्छे एक्टर हैं। फिल्मों के लिये अलग-अलग डायरेक्टर होते हैं, सोनू सूद ने जो काम किया है वह अच्छा है लेकिन ऐसा संभव है कि इसके पीछे एक राजनीतिक डायरेक्टर हो। यानी उन्होंने सोनू सूद के सारे सेवाधर्म को राजनैतिक षडयंत्र बताया ताकि सरकार को गैरजिम्मेदार दिखाया जा सके।
बता दें लॉकडाउन के दौरान प्रवासी मजदूरों और जरूरतमंदों की मदद के लिये जो सोनू सूद ने किया है उसकी पूरे देश में तारीफ हो रही है। 15 मई से अभी तक उन्होंने बस, ट्रेन और प्लेन से करीब 40000 प्रवासी मजदूरों को मुम्बई से देश के विभिन्न हिस्सों में घर तक पहुंचाया। कई सांसद, विधायक, पूर्व मंत्री ने अपने अपने क्षेत्र के लोगों को घर तक पहुंचाने के लिये सोनू सूद की मदद ली। बॉलीवुड के एक्टर्स ही नहीं कई केंद्रीय मंत्री, मुख्यमंत्री सोनू सूद की तारीफ कर रहे हैं। लेकिन शिवसेना को यह रास नहीं आया। पार्टी के मुख्यपत्र सामना में सोनू सूद के सेवा कार्य का मजाक उड़ाया गया।

 

महाराष्ट्र में सत्ताधारी शिवसेना के नेता संजय राउत ने रविवार 7 जून को शिवसेना के मुखपत्र ‘सामना’ में ‘महात्मा’ सूद की तारीफ पर सवाल उठाते हुये लिखा – कितनी चतुराई के साथ किसी को एक झटके में महात्मा बनाया जा सकता है। लॉकडाउन के दौरान आचानक सोनू सूद नाम से नया महात्मा तैयार हो गया। इतने झटके और चतुराई के साथ किसी को महात्मा बनाया जा सकता है? कहा जा रहा है कि सोनू सूद ने लाखों प्रवासी मजदूरों को दूसरे राज्यों में उनके घर पहुंचाया। अर्थात् केंद्र और राज्य सरकार ने कुछ भी नहीं किया। इस कार्य के लिए महाराष्ट्र के राज्यपाल ने भी महात्मा सूद को शाबाशी दी।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

4 + six =