भाई के लिए बहन ने डोनेट किया लिवर, बोलीं-उसे गोद में खिलाया है, किसी कीमत पर मरने नहीं दूंगी

New Delhi :  मप्र की एक बहन ने अपने भाई की जान बचाने के लिए अपना लिवर दान दे दिया। जाह्नवी ने एक बहन का फर्ज बखूबी निभाया है। रक्षाबंधन (15 अगस्त) से ठीक एक माह पहले अपने भाई को जिंदगी का तोहफा देने वाली जाह्नवी से जीवनदायनी तक की दास्तां बिल्कुल किसी योद्धा की तरह है।

भास्कर की रिपोर्ट के अनुसार जाह्नवी दुबे(41) कंसल्टिंग कंपनी केपीएमजी में कार्यरत हैं। जबलपुर में उनका मायका है। उनके भाई जयेंद्र पाठक (26) को करीब 10 दिन से बुखार था। परिवार के लोग भी इस बुखार को सामान्य समझ बैठे। डॉक्टर भी बीमारी को ठीक से पकड़ नहीं पाए। मर्ज बढ़ता गया तो जयेंद्र को अस्पताल में भर्ती कराना पड़ा। डॉक्टरों ने बताया कि जयेंद्र का लिवर 90% तक डैमेज हो चुका है। अब उनके बचने की संभावना बिल्कुल भी नहीं है। यह बात भोपाल में जाह्नवी, उनके पति प्रवीण दुबे और बेटे प्राचीश को पता चली तो सब घबरा गए।

डॉक्टरों से बात की तो कहा गया कि मरीज के बचने की संभावना सिर्फ 10 फीसदी है। बस अब जाह्नवी का पूरा फोकस इसी 10 फीसदी पर हो गया। उन्होंने डॉक्टरों से पूछा- इस 10 फीसदी में हम क्या कर सकते हैं? डॉक्टर बोले- मरीज को तत्काल दिल्ली के मेदांता हॉस्पिटल ले जाएं और जितनी जल्दी हो सके लिवर ट्रांसप्लांट करा लें, तभी जान बच सकती है।

प्रवीण ने बताया कि 14 जुलाई को मैं, जाह्नवी और हमारा 14 वर्षीय बेटा प्राचीश जबलपुर के लिए रवाना हुए। जाह्नवी पूरे रास्ते एक ही बात कह रही थी- मैंने अपने भाई को गोद में खिलाया है, वो मुझसे 15 साल छोटा है उसे किसी कीमत पर जाने नहीं दूंगी। मैं उसे लिवर दूंगी। हम जबलपुर पहुंचे। दोपहर करीब 12:30 बजे एयर एंबुलेंस दिल्ली के लिए रवाना हो गई। जाह्नवी भी अपने भाई के साथ दिल्ली चली गई। वह जल्द भाई का लिवर ट्रांसप्लांट कराना चाहती थी। प्रवीण ने बताया कि 15 जुलाई को सुबह जाह्नवी और उनके भाई का ऑपरेशन होना था।

डॉक्टरों को जाह्नवी के ऑपरेशन की प्रक्रिया शुरू करने से पहले मेरी सहमति चाहिए थी। अस्पताल के सीनियर डॉक्टरों ने मुझे फोन किया और बताया कि इस ऑपरेशन में मेरी पत्नी की जान भी जा सकती है। क्या आप इसके लिए तैयार हैं। मैंने कहा- हां, तैयार हूं। फिर डॉक्टरों ने कहा- इस सर्जरी के 13 तरह के खतरनाक रिस्क और भी हैं। डॉक्टर मुझे इसकी जानकारी देने लगे। मैंने इंकार कर दिया, कहा- ईश्वर पर मुझे पूरा विश्वास है, आप ऑपरेशन कीजिए। जाह्नवी ऑपरेशन से पहले मुझसे और बेटे से मिलना चाहती थी, लेकिन ट्रेन लेट हो गई। ऐसे में जाह्नवी ने ओटी से ही एक डॉक्टर के फोन से मुझे फोन किया और बात की। ऑपरेशन शुरू हो चुका था। मैं और मेरा बेटा करीब 1 घंटे बाद मेदांता अस्पताल पहुंचे। 13 घंटे तक अस्पताल की लॉबी में ही बैठे रहे। सोमवार रात करीब 9:30 बजे ऑपरेशन खत्म हुआ। इस तरह जाहनवी ने अपने भाई की जान बचा ली।