पिंक बॉल अंपायर्स के लिए भी मुसीबत है,अच्छे व्यू के लिए आर्टिफिशियल लेंस इस्तेमाल करें – टॉफेल

New Delhi : पूर्व दिग्गज अंपायर Simon Taufel ने पिंक बॉल को लेकर एक बड़ी बात कही है। उन्होंने कहा है कि “पिंक बॉल बल्लेबाज और गेंदबाज ही नहीं, बल्कि अंपायरों के लिए भी मुसीबत बनने वाली है। फ्लड लाइट्स में पिंक बॉल के कलर को समझने और उसकी आदत डालने के लिए अंपायरों को अभ्यास सत्रों में भाग लेना होगा। शाम के समय पिंक बॉल कम दिखाई पड़ती है। इसलिए अंपायरों को भी इस पर ध्यान देना हैअंपायर अच्छे व्यू के लिए आर्टिफिशियल लेंस इस्तेमाल कर सकते हैं।

गौरतलब है कि भारत और बांग्लादेश के बीच दूसरा टेस्ट मैच 22-26 नवंबर तक कोलकाता के ऐतिहासिक ईडन गार्डन मैदान में खेला जाएगा। यह मैच डे-नाइट टेस्ट मैच होगा। यह भारत का पहला डे-नाइट टेस्ट मैच होगा, क्योंकि पिंक गेंद से टीम इंडिया पहली बार पांच दिनों की मैच उतरने वाली है।

इस मैच को लेकर पूर्व दिग्गज भारतीय स्पिनर Harbhajan Singh ने अपनी बात कही है। उन्होंने कहा है कि “दूधिया रोशनी में गुलाबी गेंद से कलाई के स्पिनर उंगुली के स्पिनरों की तुलना में ज्यादा असरदार होंगे और उनकी गेंदों को समझना अधिक मुश्किल होगा। भज्जी ने कहा कि इस मैच में रिस्ट स्पिनर ज्यादा फायदे की स्थिति में हैं क्योंकि गुलाबी गेंद में सीन को देखना (काले धागे के कारण) मुश्किल होता है।

इससे पहले पहले पूर्व बांग्लादेशी कप्तान अमीनुल इस्लाम ने अपने टीम के बल्लेबाजों को संभलकर खेलने की बात कही है। उन्होंने कहा है कि “जिस तरह से हमने मोहम्मद शमी, इशांत शर्मा और उमेश यादव की तेज गेंदबाजी में विविधता देखी है उससे उन्हें गुलाबी गेंद से काफी फायदा मिलेगा। भारत इसका भरपूर फायदा उठाएगा। ईडन गार्डन में पिंक बॉल से भारतीय तेज गेंदबाज कहर बरपा सकते हैं।”