MP: सरकार मुझे गिरफ्तार करे,मैं तो बढ़े हुए बिजली बिल वापस लेने के लिए आंदोलन करता रहूंगा-शिवराज

New Delhi: मध्यप्रदेश के पूर्व मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान पिछले एक हफ्ते से जनता के बीच हैं। कभी वो राज्य सरकार द्वारा किये जा रहे किसानों पर अत्याचार का आरोप लगाते हैं कभी बाढ़ पीड़ितो से मिलते हैं तो कभी राज्य सरकार द्वारा बिजली बिलों के बढ़ने का आरोप लगाते हैं। बिजली बिलों की होली जलाने के बाद मंगलवार को इन सभी मुद्दों पर मीडिया से मुखातिब होते हुए शिवराज ने कहा सरकार चाहे तो मुझे गिरफ्तार कर सकती है लेकिन मैं आंदोलन करता रहूंगा। बढ़े हुए मंहगे बिजली बिलों से राज्य के किसानों का शोषण हो रहा है जिसका हम विरोध कर रहे हैं।

अपने पूरे आंदोलन के बारे में मीडिया के साथ बात करते हुए शिवराज ने कहा पहले भी बिजली के बिल माफ होते रहे हैं, सरकार को करना पड़ेगा। अगर सरकार को एफआईआर करना है, तो मुझे गिरफ्तार कर ले। मैं आंदोलन चला रहा हूं, मुझे पकड़ ले, लेकिन मैं जनता के साथ अन्याय नहीं होने दूंगा

बीते रविवार को शिवराज मंदसौर में बढ़े हुए बिजली के बिलों का हवाला देते हुए कमलनाथ सरकार पर निशाना साधा था और बिजली बिलों की आम जनता के साथ होली जलाई थी। कांग्रेस नेतृत्व वाली कमलनाथ सरकार पर बिजली बिलों को दोगुना करने के आरोप लगाते हुए कहा था कि इतना मंहगा बिल मेरी बहनों से आप नहीं वसूल सकते।

बता दें मध्यप्रदेश के पूर्व मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान इन दिनों बाढ़ प्रभावित मंदसौर में लोगों का हाल लेने पहुंचे हुए हैं। जिले के हालातों पर वह जमकर कमलनाथ सरकार को कोस रहे हैं। बाढ़ प्रभावितों का हाल लेने के नाम पर शूरू हुआ उनका ये दौरा अब राजनीतिक रंग में रंगता जा रहा है। ये वही मंदसौर है जहां साल 2017 में शिवराज सरकार ने किसानों के धरने प्रदर्शन पर गोलिया चलवाईं थी जिसमें कई किसान मारे गए थे।

शिवराज ने कमलनाथ सरकार पर बाढ़ पीड़ितों के प्रति लापरवाह होने का आरोप लगाया है। वहीं कांग्रेस ने कहा है कि जिस नेता ने किसानों पर गोलियां चलाई आज वो उनके लिए घड़ियाली आंसू बहाने यहां आ गए हैं। इसका जवाब देते हुए उन्होंने मीडिया से कहा कि मैं यहां नौटंकी करने नहीं आया हूं। कांग्रेस चाहिए कि वो अपने नेताओं को समझाए उन्हें ऐसी स्थिति में ऐसे बयान नहीं देने चाहिये।