राफेल पर SC के फैसले पर बोले शिवसेना सांसद, राफेल मुद्दे का हल संसद में निकाला जाना चाहिए

New Delhi: राफेल डील को लेकर सुप्रीम कोर्ट में आज सुनवाई हुई। सीजेआई ने सुनवाई में राफेल सौदे को सही ठहराया और कोई संदेह न होने की बात कही। साथ ही, राफेल डील से जुड़ी सभी याचिकाओं को खारिज कर दिया। सुप्रीम कोर्ट ने मोदी सरकार को क्लीन चिट देते हुए कहा कि राफेल डील में सुरक्षा और सौदे के नियम-कायदे दोनों को ध्यान में रखा गया हैं। इसलिए इसमें कोई संदेह नहीं है कि विमान हमारी ज़रूरत हैं और उनकी गुणवत्ता पर भी सवाल नहीं है।

शिवसेना सांसद संजय राउत ने कहा कि कोर्ट ने कुछ गलत नहीं कहा, राफेल विमान की कीमत निर्धारित करना कोर्ट का काम नहीं है ठीक वैसे ही राम मंदिर बनाना उनका काम नहीं है। राफेल डील के मामले को कोर्ट में नहीं संसद में सुलझाना होगा। वहीं वरिष्ठ कांग्रेस नेता आनंद शर्मा ने प्रतिक्रिया देते हुए कहा कि राफेल पर सुप्रीम कोर्ट के फैसले को लेकर पीएम मोदी और बीजेपी को जश्न मनाने का कोई कारण नहीं है। उन्होंने कहा कि सुप्रीम कोर्ट ने कहा कि वह राफेल सौदे के विस्तार में नहीं जा सकता है।

राहत मिलने वाले सुप्रीम कोर्ट के फैसले पर अनिल अंबानी ने बयान जारी किया। अंबानी ने कहा कि राफेल सौदे को लेकर दायर की गई जनहित याचिकाओं को खारिज करने का फैसला स्वागत योग्य हैं। सभी आरोप आधारहीन और राजनैतिक उद्देश्यों के लिए लगाए गए थे जो आखिर में झूठ साबित हुए। इसके अलावा, कांग्रेस प्रवक्ता रणदीप सुरजेवाला ने प्रतिक्रिया दी।

Sanjay Raut

उन्होंने मीडिया से बात करते हुए कहा कि राफेल सौदे का मामला अनुच्छेद 132 और 32 से जुड़ा है। ऐसे में सुप्रीम कोर्ट विमान के मूल्य और सौदे की प्रकिया से जुड़ी संवेदनशील रक्षा अनुबंध पर फैसला नहीं दे सकता। इस मामले की सिर्फ जेपीसी से जांच कराई जा सकती है। उन्होंने कहा कि प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी अगर पाक-साफ हैं, तो वह JPC से क्यों डरते हैं… चौकीदार ही चोर है।

आको बता जदें कि CJI रंजन गोगोई ने कहा कि हम सरकार को 126 विमान खरीदने पर विवश नहीं कर सकते और यह सही नहीं होगा कि कोर्ट केस के हर पहलू की जांच करे। कीमत की तुलना करना कोर्ट का काम नहीं है। देश के गृहमंत्री राजनाथ सिंह ने कहा कि राफेल का सच देश के सामने आ गया हैं। हम पहले से ही कहते आ रहे हैं कि कांग्रेस द्वारा लगाए गए आरोप निराधार थे और राजनीतिक लाभ हासिल करने के लिए कांग्रेस लगातार मामले की उछाल रही थी।