‘आप’ और कांग्रेस का गठबंधन पर बोलीं शीला दीक्षित, हाईकमान का फैसला होगा फाइनल, सभी करेंगे अमल

NEW DELHI: लोकसभा चुनाव 2019 में अब कुछ ही महीने बचे हैं। ऐसे में विपक्ष पार्टी बीजेपी के खिलाफ जीत हासिल करने के लिए अपना-अपना दांव खेल रही है। इस कड़ी में दिल्ली की पूर्व मुख्यमंत्री शीला दीक्षित ने आम आदमी पार्टी के साथ कांग्रेस के गठबंधन को लेकर बयान दिया। शीला दीक्षित ने कहा कि पार्टी हाईकमान का जो भी फैसला होगा वह सभी को मान्य होगा। दरअसल, पिछले कुछ समय से चर्चा हो रही थी कि दिल्ली में कांग्रेस और आप दोनों मिलकर आम चुनाव लड़ सकते हैं।

इस चर्चा को लेकर जब शीला दीक्षित ने सवाल किया गया तो उन्होंने कहा कि गठबंधन पर फैसला हाईकमान करेगा। राहुल गांधी और पार्टी के सभी लोग इस पर फैसला लेंगे। पार्टी के फैसले को सभी लोग मानेंगे। आपको बता दें कि शीला दीक्षित दिल्ली की तीन बार मुख्यमंत्री रह चुकी हैं। साल 2013 विधानसभा चुनाव में आम आदमी पार्टी कांग्रेस को हराकर पहली बार दूसरी सबसे बड़ी पार्टी बनकर उभरी।

Sheila Dikshit

बीजेपी को 31, आप को 28 और कांग्रेस को आठ सीटें मिली यानि 70 सीटों वाली दिल्ली विधानसभा में किसी भी पार्टी को पूर्ण बहुमत नहीं मिली। कांग्रेस ने बाहर से समर्थन दिया और केजरीवाल पहली बार दिल्ली के मुख्यमंत्री बने। 47 दिनों तक सरकार चलाने के बाद केजरीवाल ने इस्तीफा दे दिया। जिसके बाद दिल्ली में राष्ट्रपति शासन लागू हो गया। फिर लोकसभा चुनाव के बाद 2015 में विधानसभा चुनाव हुए।

इस चुनाव में आम आदमी पार्टी ने ऐतिहासिक 67 सीटें हासिल की। कांग्रेस शून्य पर सिमट गई और बीजेपी ने मात्र तीन सीटें हासिल की, लेकिन अब राजनीतिक समीकरण बदल चुके हैं। केंद्र में बीजेपी पूर्ण बहुमत के साथ सत्ता में है, दिल्ली में सभी सात सीटों पर उसका कब्जा है। अब सभी विपक्षी पार्टियों के सामने बीजेपी को हराने की चुनौती है। वहीं केजरीवाल ने 1984 दंगों के एक मामले के फैसले पर इशारे में कांग्रेस के साथ गठबंधन की बात कही।