शारदा चिटफंड मामला : CBI ने राजीव कुमार की तलाश के लिए बनाई गई 10 सदस्यीय टीम

New Delhi: केंद्रीय जांच ब्यूरो (CBI) ने कोलकाता पुलिस के पूर्व आयुक्त राजीव कुमार का पता लगाने के लिए एक नई टीम का गठन किया है। CBI के अधिकारियों की इस नई टीम ने बुधवार को कोलकाता में काम शुरू कर दिया है। सूत्रों के अनुसार, बुधवार को दिल्ली में सीबीआई मुख्यालय से दो एसपी रैंक के अधिकारियों सहित कम से कम 10 अधिकारियों को कोलकाता लाया गया था।

अधिकारी कोलकाता के सीजीओ कॉम्प्लेक्स स्थित सीबीआई कार्यालय पहुंचे और संयुक्त निदेशक पंकज श्रीवास्तव को सूचना दी। पश्चिम बंगाल की प्रमुख जांच एजेंसी क्राइम इन्वेस्टिगेशन डिपार्टमेंट (CID) के प्रमुख राजीव कुमार को CBI ने पिछले शनिवार को पूछताछ के लिए बुलाया था।

Quaint media

हालांकि, राजीव कुमार जांच एजेंसी के सामने आने में नाकाम रहे थे। इसके बजाय, उसने सीबीआई को एक ईमेल भेजा, जिसमें एजेंसी के सामने पेश होने के लिए समय की मांग करते हुए कहा गया कि वह फिलहाल छुट्टी पर है।

यह समन कलकत्ता हाईकोर्ट के आदेश के बाद जारी किया गया था, जिसमें सारदा चिट फंड घोटाले के सिलसिले में राजीव कुमार की गिरफ्तारी से रोक हटा दी गई थी।

मंगलवार को बारासात में एक विशेष अदालत के साथ-साथ जिला न्यायालय ने क्षेत्राधिकार की कमी का हवाला देते हुए राजीव कुमार की अग्रिम जमानत याचिका पर सुनवाई करने से इनकार कर दिया।

सीबीआई ने पहले राज्य के डीजीपी, मुख्य सचिव और गृह सचिव को पत्र लिखकर राजीव कुमार के बारे में जानकारी मांगी थी ताकि उनके ठिकानों का पता लगाया जा सके।

शारदा चिटफंड स्कैम पश्चिम बंगाल का एक बड़ा वित्तीय घो’टाला है। इस घो’टाले में तृणमूल कांग्रेस के नेता व पूर्व मंत्री मदन मित्रा, शारदा समूह के मालिक सुदीप्त सेन सहित कई नेताओं पर आ’रोप लगे हैं। इसमें करीब 40 हजार करोड़ की हेर-फेर की बात सामने आई है। इस मामले में साल 2014 में सुप्रीम कोर्ट ने सीबीआई को जांच के आदेश दिए थे और मामले की जांच के लिए सुप्रीम कोर्ट ने पश्चिम बंगाल, ओडिशा और असम पुलिस को सहयोग करने का आदेश दिया था।

इन चिटफंड घोटालों की जां’च करने वाली पश्चिम बंगाल पुलिस की SIT टीम का नेतृत्व वर्ष- में 2013 में राजीव कुमार ने किया था। सीबीआई सूत्रों का कहना है कि एसआईटी जांच के दौरान कुछ खास लोगों को बचाने के लिए घोटालों से जुड़े कुछ अहम सबूतों के साथ या तो छेड़छाड़ हुई थी या फिर उन्हें गायब कर दिया गया था। इसी सिलसिले में सीबीआई राजीव कुमार से पूछताछ करने चाहती है जिसके बाद सीबीआई पर कई आरोप लगाते हुअ ममता बनर्जी ने उन्हें बचाने के लिए धरना दिया था। रोज वैली और शारदा चिटफंड मा’मले में सीबीआई ने अब तक 80 चार्जशीट दायर कर चुकी हैं।

3 फरवरी को कोलकाता पुलिस द्वारा CBI के अधिकारियों को राजीव कुमार के पास उनके सरकारी आवास पर मिलने से रोक दिए जाने पर सीबीआई नेे Supreme Court का रुख किया था।