महाराष्ट्र: बेमौसम बारिश से खराब हुई फसलों का मुआयना करने खेतों में पहुंचे शरद पवार

New Delhi: राष्ट्रीय कांग्रेस पार्टी (राकांपा) के प्रमुख शरद पवार राजनीतिक वस्तताओं से समय निकालकर गुरुवार बेमौसम बारिश में बर्बाद हो चुकी फसलों का मुआयना करते दिखे। उन्होंने यहां नागपुर में कई किसानों के खेतों का दौरा किया और खराब हो चुकी फसलों की समीक्षा की। आज किसानों ने अपनी इन्हीं समस्या को सत्ता तक पहुंचाने के लिए मुंबई में राजभवन के बाहर विरोध प्रदर्शन किया। अपना हक मांग रहे इन किसानों को पुलिस ने सुरक्षा कारणों का हवाला देकर हिरासत में भी ले लिया।

आज राजभवन के बाहर प्रदर्शन कर रहे एक किसान ने समाचार एजेंसी एएनआई को बताया “बारिश की वजह से हमने भारी नुकसान को झेला है। नासिक में हमारी सारी फसल बेमौसम बारिश की वजह से बर्बाद हो गई है। प्याज और अंगूर की फसलें बुरी तरह से प्रभावित हुई हैं। हम फसल के नुकसान के कारण यहां विरोध कर रहे हैं। सरकार अभी भी फसल नुकसान पर हमारी दलीलों को सुनने के लिए राजी नहीं है,”।

एक दूसरे किसान ने कहा, “बारिश ने कपास और सोयाबीन की फसलों को पूरी तरह से बर्बाद कर दिया है। अगर सरकार ने हमारे जीवन की बात नहीं मानी, तो हम दिनों तक भूखे रहने को मजबूर होंगे।” एएनआई से बात करते हुए, किसानों में से एक ने कहा: “मेरे पास 3 एकड़ का एक संतरे का खेत था, जो अब पूरी तरह से बर्बाद हो गया है। नुकसान का अनुमान लगभग 2-2.5 लाख रुपये है।”

राष्ट्रपति राम नाथ कोविंद के अनुमोदन के बाद महाराष्ट्र में राष्ट्रपति शासन लागू हो गया है। बता दें कि महाराष्ट्र चुनाव के नतीजों के 19 दिन बाद महाराष्ट्र में लगा राष्ट्रपति शासन लागू किया गया है। आम जनता तो इस स्थिति को सह भी ले लेकिन वो किसान किससे गुहार लगाएं जिनकी फसलें बेमौसम बारिश के कारण बर्बाद हो गई हैं।