शाह बोले- बंगाल में तीन कानून, पहला भतीजे, दूसरा मुस्लिमों और तीसरा आम लोगों के लिये

New Delhi : केंद्रीय गृह मंत्री अमित शाह ने शुक्रवार को अखिल भारतीय तृणमूल कांग्रेस (टीएमसी) सरकार पर अल्पसंख्यक तुष्टिकरण का आरोप लगाया। कहा कि पश्चिम बंगाल की बिगड़ती कानून व्यवस्था पूरे देश के लिये भी चिंताजनक है। उन्होंने पॉलिटकल किलिंग पर एक श्वेत पत्र जारी करने की मांग की और मतदाताओं से भारतीय जनता पार्टी को वोट देकर एकबार पश्चिम बंगाल का नेतृत्व देने का आग्रह किया। गृह मंत्री ने कहा कि राज्य में सरकारी अधिकारियों का राजनीतिकरण और अपराधीकरण हुआ है।

अमित शाह पश्चिम बंगाल में दो दिवसीय यात्रा पर थे। उन्होंने कहा कि TMC सरकार ने 2018 के बाद राष्ट्रीय अपराध रिकॉर्ड ब्यूरो (NCRB) को अपराध के आंकड़े भेजना बंद कर दिया है। दक्षिणेश्वर काली मंदिर की यात्रा के दौरान शाह ने तुष्टीकरण की राजनीति को अपनाने के लिये टीएमसी सरकार को जिम्मेदार ठहराया। उन्होंने कहा कि राष्ट्र की आध्यात्मिक चेतना को बनाए रखने की राज्य की पुरानी परंपरा को चोट पहुंचाई गई है।
गृह मंत्री ने कहा कि पश्चिम बंगाल के राज्यपाल जगदीप धनखड़ संवैधानिक सीमा के भीतर ही काम कर रहे हैं। अमित शाह बोले- 2018 के बाद, पश्चिम बंगाल सरकार ने अपराध के आंकड़े एनसीआरबी को नहीं भेजे हैं। राज्य सरकार क्या छिपाने की कोशिश कर रही है? मैं ममता बनर्जी से बंगाल में राजनीतिक अपराधों पर श्वेत पत्र जारी करने की मांग करता हूं। राज्य राजनीतिक अपराधों के चार्ट में सबसे ऊपर है।
भाजपा नेता ने मुख्यमंत्री के भतीजे अभिषेक बनर्जी के खिलाफ तीखा हमला किया। शाह ने कहा- विकास के नए युग में एक मजबूत बंगाल का निर्माण करना है। ममता बनर्जी ने अपने भतीजे को अगला मुख्यमंत्री बनाने का लक्ष्य रखा है। पश्चिम बंगाल में, तीन प्रकार के कानून हैं: एक भतीजे के लिए, एक अल्पसंख्यक तुष्टीकरण के लिए, और तीसरा आम लोगों के लिए।

शाह ने पश्चिम बंगाल की सीमाओं को सुरक्षित नहीं होने का हवाला देते हुए घुसपैठ के मुद्दे पर भी बात की। उन्होंने 2021 के विधानसभा चुनाव में प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के नेतृत्व में लोगों से भाजपा को वोट देने का आग्रह किया, ताकि शोनार बांग्ला का सपना सच हो सके। उन्होंने कहा- ममता बनर्जी सरकार अपने वादों को निभाने में विफल रही है। उनके वादे पिछले 10 वर्षों में खोखले साबित हुये हैं और लोगों की उम्मीदें निराशा में बदल गई हैं।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

− 1 = two