इस वजह से आते हैं रात को डरावने सपने…..

जानें वास्तु के अनुसार सोने की सही दिशा

हर इंसान सोने के बाद सपने देखता है कुछ सपने हमे याद रहते हैं तो कुछ हम भूल जाते हैं। अच्छे सपने तो आप एक बार को भूल भी सकते हैं लेकिन जब कभी हमे बुरे या फिर डरावने सपने आते हैं तो हमारी उस रात की नींद तो खराब होती ही है पूरा दिन भी इसी डर में बीत जाता है कि कहीं ऐसा सच हो गया तो। लेकिन अब आपको और ज्यादा इस तरह के सपनों से डरने की जरूरत नहीं है क्योंकि आज हम आपको बताने जा रहे हैं वो कारण जिनकी वजह से हमे रात को डरावने सपने आते हैं तो चलिए एक नजर डालते हैं इसके कारणों पर-

1. तनाव- आज लगभग सभी व्यक्ति खुद को तनाव से घिरा पाते हैं। लेकिन आपको बता दें कि तनाव लेने से समस्याएं हल नहीं होती हैं बल्कि और ज्यादा बढ़ती जाती हैं। अगर आपको भी तनाव की समस्या है तो इसके लिए आप ध्यान कर सकते हैं। आपने ध्यान दिया होगा दिन भर आप जो भी कुछ सोचते हैं या करते हैं वो ही रात को आप अपने सपने में देखते हैं तो आगे से भूल कर भी तनाव ना लें।

2. चादर का रंग- रंगों का हमारे दिमाग पर गहरा असर पड़ता है। हल्के रंगों से मन को शांति मिलती है वहीं गहरे रंग मन को बैचेन करते हैं। अगर आपके बैड पर बिछी चादर या फिर ओढ़ने वाली चादर गहरे रंग की है तो उसकी जगह हल्के रंग की चादर का इस्तेमाल भी डरावने सपनों से मुक्ति पाने में कारगर साबित हो सकता है।

3. बेड के अंदर और नीचे रखा सामान- हम सभी लोग अकसर अपने घर का फालतू सामान बेड के अंदर डाल देते हैं लेकिन आपको बता दें कि इससे निकलने वाली नकारात्मक ऊर्जा का असर आपके घर पर तो पड़ता है ही इससे आपके सपने भी अछूते नहीं हैं। बेड के नीचे पड़े चप्पल-जूतों से भी हमे रात को डरावने सपने आते हैं।

4. सोने की सही दिशा- वास्तुशास्त्र में दिशाओं का बहुत महत्व है उसमें सोने की दिशा के बारे में भी बताया गया है। इसके अनुसार सोते वक्त आपका सिर दक्षिण और पैर उत्तरी दिशा में होने चाहिए।

5. डरावने कार्यक्रम देखना- हम जो भी चीज टीवी या फिर अपने फोन में देखते हैं उसका असर भी हमारे दिमाग पर होता है। अकसर रात के समय भूत-प्रेत या फिर अपराध के कार्यक्रम आते हैं। रात के समय ऐसे कार्यक्रम देखने से भी हमे डरावने सपने आते हैं।

6. रात में फोन का इस्तेमाल करना- फोन से निकलने वाली रोशनी का हमारे दिमाग पर बहुत गहरा असर होता है, ये ही नहीं उससे निकलने वाली तरंगें भी हमारे दिमाग पर नकारात्मक असर करती हैं। इसलिए सोने से ठीक पहले फोन का इस्तेमाल ना करें। अपनी दिनचर्या में भी इस बात का ध्यान रखें कि आप जितना हो सके फोन का इस्तेमाल कम ही करें।