SC ने सीबीआई निदेशक से राजीव कुमार के खिलाफ अपने दावे के समर्थन में मांगी रिपोर्ट

New delhi.  भारत के सुप्रीम कोर्ट ने सीबीआई निदेशक से कॉल डेटा रिकॉर्ड के साथ छेड़छाड़ के मामले पर राजीव कुमार पर लगाए गए आरोपों पर जवाब मांगा है। सुप्रीम कोर्ट ने कहा है कि सीबीआई निदेशक से दो हफ्तों में जवाब मांगा है। सुप्रीम कोर्ट यह सुनवाई राजीव कुमार द्वारा सीबीआई के खिलाफ दायर अवमानना का केस दायर करने पर आया है।

बताते चलें कि सीबीआई ने शारदा चिट फंड घोटाले के मालमें राजीव कुमार से सबूतो के साथ छेड़छाड़ का आरोप लगया था और इसके लिए सीबीआई टीम ने कोलकता स्थिति राजीव कुमार के आवास पर छापे मारने की कोशिश की थी जिसके बाद कोलकता पुलिस ने सीबीआई अधिकारियों को थाने में बैठा लिया था। वहीं इस मामले को लेकर पंश्चिम बंगाल की ममता सरकार को केन्द्र सरकार आमने-सामने आ गए थे। इस इस मामले को लेकर फऱवरी के पगले सप्ताह में ममता ने धरने पर बैठ गई थीं

दो दिन चली थी पूछताछ

सीबीआई के तीन वरिष्ठ अधिकारियों ने राजीव कुमार से 8 घंटे तक पूछताछ की। राजीव कुमार पर आरोप हैं कि उन्होंने शारदा घोटाले से जुड़े अहम सबूत से छेड़छाड़ की और उन्हें नष्ट किया। राजीव कुमार के वकील विश्वजीच देब ने बताया कि वह सीबीआई के साथ सहयोग कर रहे हैं। राजीव कुमार सुप्रीम कोर्ट के आदेश के बाद यहां आए हैं। उन्होंने पहले भी बात मानी है अब भी आदेश का पालन कर रहे हैं।